05.06.2016 ►Acharya Shri VidyaSagar Ji Maharaj ke bhakt ►News

Posted: 05.06.2016
Updated on: 05.01.2017

Update

शंका समाधान
==========

१. मंदिर जी के पैसों का उपभोग करने से तीव्र अंतराय कर्म का बंध होता है!

२. साधू को कोई मारने आये तो वो कभी प्रतिकार नहीं करेगा लेकिन ग्रहस्थ के लिए विरोधी हिंसा क्षम्य है, ये उसके लिए अहिंसा ही है!

३. ग्रहस्थ धर्म कोई छोटा मोटा धर्म नहीं है, ग्रहस्थ भी अगर उसके व्रतों का उत्तम तरीके से पालन करे तो वो भी उत्तम गति पा सकता है, और अनुक्रम से मोक्ष!

४. व्यापर में लोगों को बाहर जाना पड़ता है, लेकिन अपने सिद्धांतों पर द्रण रहना चाहिए, उनसे कोई समझौता नहीं करना चाहिए! client को अभक्ष्य आदि खिलाना कतई गलत है, ऐसा कभी नहीं करना चाहिए!

५. धवला ग्रन्थ में आचार्य वीरसेन महाराज ने कहा है की वर्तमान में जो भी शास्त्र / ज्ञान उपलब्ध है, उसके ज्ञानी को उपाध्याय कहा जा सकता है!

६. किसी भी चीज का आवश्यकता से अधिक प्रयोग करने से अनर्थ (प्रयोजन रहित) दण्ड (पाप) का भागी बनना पड़ता है!

७. शास्त्रों के अनुसार १०० योजन तक अगर मुनि महाराज है तो प्रतिमा प्रतिष्ठा / सूर्य मंत्र मुनि महाराज से ही कराना चाहिए!

- प. पू. मुनि श्री १०८ प्रमाण सागर जी महाराज (संकलन)

ग़ज़ब

:) • जियो ओर जीने दो @ मुनि प्रणामसागर जी.. माँगी तुंग़ी सिद्ध क्षेत्र में एक प्यासे बंदर को कमंडलु से पानी पिलाते हुए • #Jainism

exlusive picture clicked today morning of bade baba.. first time on facebook ✿ धन्य धन्य वे लोग यहाँ जो आज रहे सर टेक.. मस्तका अभिषेक महा... मस्तका अभिषेक! सब लोगो में होड़ लगी, बड़े बाबा का अभिषेक पहले कौन करे.. मस्तका अभिषेक महा... मस्तका अभिषेक! आज प्रथम अभिषेक का द्रश्य:) #kundalpur

क्या आपको पता हैं, आचार्य श्री को दीक्षा लिए हुए 48 वर्ष हो गए ओर इस पेज में 38,000 LIKES हैं, क्या आप नई चाहते की पेज पर आचार्य श्री की 50th दीक्षा दिवस तक इस पेज पर भी 50,000 LIKES हो जाए! नीचे दिए गए लिंक को अपना STATUS बनाए इस पेज को SHARE करे:)) LINK: https://www.facebook.com/VidyasagarGmuniraaj

--- ♫ www.jinvaani.org @ Jainism' e-Storehouse ---

✿ आज बड़े बाबा की महामस्तका अभिषेक का आगाज हुआ:) #exclusive click #Kundalpur -पारस चेनल मे बडे बाबा मस्तकाभिषेक live देखे समय!

सुबह 5 बजे से 9 बजे तक | दोपहर - 3 से 5 बजे तक | रात्री - 8 से 10 बजे तक

क्या आपको पता हैं, आचार्य श्री को दीक्षा लिए हुए 48 वर्ष हो गए ओर इस पेज में 38,000 LIKES हैं, क्या आप नई चाहते की पेज पर आचार्य श्री की 50th दीक्षा दिवस तक इस पेज पर भी 50,000 LIKES हो जाए! नीचे दिए गए लिंक को अपना STATUS बनाए इस पेज को SHARE करे:)) LINK: https://www.facebook.com/VidyasagarGmuniraaj

--- ♫ www.jinvaani.org @ Jainism' e-Storehouse ---

Almost Live Click:)

❖❖आचार्य श्री आदिसागर जी अंकलीकर महाराज❖❖

वर्तमान में विराजित 600 से अधिक दिगम्बर जैन सन्तों के परम्पराजनक गुरु आचार्य श्री आदिसागर जी अंकलीकर महाराज का जन्म सन् 1866 में कर्नाटक.के एक छोटे से गाँव अंकली में हुआ था ।कर्नाटक भारत के दक्षिण में है. दिगम्बर संतों की इन क्षेत्रों में एक समृद्ध परंपरा और जैनियों के लिए एक उल्लेखनीय इतिहास है । महाराज जी बचपन से ही बहुत धार्मिक प्रवृति वाले थे ।जब वे 15 वर्ष की आयु के थे,तब ही उनकी माता जी का स्वर्गवास हो गया और २७ साल की उम्र में उनके पिताजी का देहांत हो गया।और यही उनके वैराग्य का कारण बना और वे 6 प्रकार के आवश्यक का पालन करने लगे । 40 साल की उम्र में उन्होंने क्षुल्लक दीक्षा ले ली ।इसके बाद उन्होंने अपनी आध्यात्मिक प्रगति को आगे बढ़ाना चालू कर दिया
इन्होंने कुंथलगिरि में कुलभूषण और देशभूषण भगवन्त को साक्षी मानकर दीक्षा ग्रहण की
४७ साल की उम्र में उन्होंने मुनि दीक्षा ले ली और कपड़े सहित अपना सभी सामान त्याग कर निर्ग्रन्थ हो गए। वे बहुत बड़े तपस्वी थे । वे 7 दिन में 1 बार आहार करते थे और बाकी समय जंगल में तपस्या करते थे ।वह अपने आहार में केवल 1 ही चीज (अगर आम का रस लेते थे तो केवल आम का रस ही लिया करते थे और कुछ नहीं) लेते थे । वे गुफाओं में तपस्या करते थे । 1 बार तपस्या करते हुए उनके सामने 1 शेर आ गया था, कुछ समय बाद वो वापस चला गया और उन्हें बिलकुल भी परेशान नहीं किया ।
आचार्य श्री १०८ आदि सागर जी महाराज ने 32 मुनि दीक्षा और 40 आर्यिका दीक्षा देकर संघ का निर्माण किया।
आचार्य श्री महावीरकीर्ति जी,मुनि श्री नेमी सागर जी और मुनि श्री मल्लिसागर जी इनके प्रमुख शिष्य हुए
उसके बाद के वर्षो में उन्हें मोतियाबिंद नामक रोग हो गया और उन्होंने सल्लेखना लेने का निर्णय किया और सन् 1944 सामाधि मरण किया ।
समाधि उदगांव, कुंजवन में हुई!
इनकी समाधी के समय की अन्तिम मयूर पिंछी श्री ब्रम्हनाथ पुरातन दिगम्बर जैन मंदिर, कोल्हापुर, महाराष्ट्र में सुरक्षित है!
और चरित्र चक्रवर्ती आचार्य श्री शांतिसागर महाराज जी जब अपनी गृहस्थ अवस्था में थे तो वे आचार्य श्री आदिसागर जी महाराज को अपने कंधे पर बिठा कर नदी पार करा देंते थे, और फिर वापस छोड़ कर भी आते थे, फिर महाराज से निवेदन करते थे की “मैं तो आपको नदी पार करा रहा हूँ, आप मुझे संसार सागर पार करा देना”!
हमारे लिए सारी दिगंबर परंपरा महान पूजनीय है...
आचार्य आदिसागर जी की परम्परा के पट्टाचार्य - आचार्य महावीर कीर्ति जी - वात्सल्य रत्नाकर आचार्य विमलसागर जी - तपस्वी सम्राट आचार्य सन्मति सागर जी - आचार्य सुनील सागर जी [वर्तमान पट्टाचार्य]! दिगंबर परंपरा की जय..हो...ऐसे साधू सदा जयवंत रहे...
शाह मधोक जैन चितरी

✿ आज #kundalpur में बड़े बाबा का महामस्तका अभिषेक का आगाज छोटे बाबा आचार्य #vidyasagar के सनिध्ये में हो गया हैं, आज दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्रीसा सतेन्द्र जैन जी [ आम आदमी पार्टी ] पधारे और कहा मेरा रात्री भोजन का त्याग हैं और मैं कोई ऐसा काम नहीं करूँगा जिससे जैन धर्मं की गरिमा को ठेस पहुचे, भ्रष्टाचार नहीं करेंगे तथा आचार्य श्री आशीर्वाद दिया, इससे पहले आचार्य श्री के साथ सतेन्द्र जी की चर्चा भी हुई! आज 3:30 बजे आचार्य श्री के विशेष प्रवचन LIVE कुण्डलपुर से आयेंगे PARAS CHANNEL पर देखना ना भुला क्योकि आज आचार्य श्री के गुरु आचार्य ज्ञानसागर जी का समाधी दिवस हैं!

--- ♫ www.jinvaani.org @ Jainism' e-Storehouse ---

@महावीर तपोभूमि, उज्जैन(म.प्र.), भारत

जय हो भगवन..
--- ♫ www.jinvaani.org @ Jainism' e-Storehouse ---

Update

सभी को सादर जय जिनेंद्र। रविवार ५ जून २०१६ ज्येष्ठ शुक्ल एकम।रोहिणी व्रत की शुभकामनाएँ
आचार्य ज्ञान सागर महराज की जय (समाधि दिवस)।
आर्यिका सूत्रमति माताजी एवं २९ माताजी की जय।(दीक्षा दिवस)

आज का विचार: धर्म और धर्मात्मा के सम्मान के प्रति हम सजग रहें, यह हमारा भावानुराग है। अपने धर्म और अपने साधर्मी के गौरव को हम व्यक्तिगत हितों से ऊपर रखें, यही प्रेरणा आज मुनिश्री क्षमासागर जी महाराज हमें श्रीमद् रायचंद जी के जीवन की एक घटना के माध्यम से दे रहे हैं।

Thought of the day:The great Acharyas inspire us to develop Bhavanurag - that is to develop the sentiments that help us protect the honour of Dharma and those following the path of Dharma. In today's pravachan clip Munishri Kshamasagarji explains the virtue of Bhavanurag through a life incident from life of Shrimad Raichandji.

मैत्री समूह
9827440301

https://m.facebook.com/Maitreesamooh

Link: https://soundcloud.com/user-289993/vrv1kqak2j6r

५ जून २०१६ - मुनिश्री क्षमासागर जी - श्रीमद् रायचंद जी के जीवन की घटना
सभी को सादर जय जिनेंद्र। रविवार ५ जून २०१६ ज्येष्ठ शुक्ल एकम।रोहिणी व्रत की शुभकामनाएँ आचार्य ज्ञान सागर महराज की जय (समाधि दिवस)। आर्यिका सूत्रमति माताजी एवं २९ माताजी की जय।(दीक्षा दिवस) आज का विच

News in Hindi

✿ According to UN 21,000 people die every day of hunger. And you are sad because you didn't get your favourite food:(

--- ♫ www.jinvaani.org @ Jainism' e-Storehouse ---

today picture ✿ UPDATE आज आचार्य श्री विद्यासागर जी के गुरु आचार्य ज्ञानसागर जी का समाधि दिवस हैं.. इस अवसर पर विशेष प्रवचन LIVE PARAS CHANNEL पर आ रहे हैं:) #exclusive #kundalpur आज 3 बजे विशेष प्रवचन होंगे जिसका सीधा प्रसारण पारस चैनल पर आएगा!!!

--- ♫ www.jinvaani.org @ Jainism' e-Storehouse ---

कलशा ढालो रे, ढालो रे, ढालो सब मिलके:) बड़े बाबा महा मस्तक अभिषेक -#kundalpur #vidyasagar Delhi Govt ke Health minister Mr. Satendra Jain पहुँचे आज बड़े बाबा तथा छोटे बाबा के दर्शन करने!!

Share this page on: