24.07.2016 ►Acharya Shri VidyaSagar Ji Maharaj ke bhakt ►News

Published: 24.07.2016
Updated: 05.01.2017

Update

आचार्य भक्ति exclusive today:) ✿ आचार्यश्री की दिनचर्या ✿ Ideal lifestyle!:) #vidyasagar

आचार्य विद्यासागर जी महाराज सुबह लगभग साढ़े तीन बजे जाग जाते हैं। लगभग दो घंटे प्रतिक्रमण व भक्ति के बाद 5.30 बजे गुरू भक्ति होती है। गुरू भक्ति में आचार्यश्री उनके शिष्य मुनिगण और आम लोग भी रहते हैं। सुबह 6.00 बजे आचार्यश्री शौच के लिए अरेरा पहाड़ी (डीबी माल के पीछे) जाते हैं। इस दौरान लगभग 300 से 400 भक्त उनके साथ होते हैं। 7.30 से 8.30 बजे तक वे अपने शिष्य मुनियों को पढ़ाते हैं। 9 बजे से 9.30 बजे तक मुख्य पंडाल में आचार्यश्री का पाद प्रच्छालन, उनकी पूजन एवं संक्षिप्त प्रवचन होते हैं। 9.45 बजे मुनिसंघ आहार के लिए रवाना होते हैं। दोपहर 11.30 बजे ईर्यापद भक्ति होती है। दोपहर 12 से 2.00 बजे तक ध्यान और सामयिक होती है। 2 बजे से 2.45 बजे तक आचार्यश्री स्वाध्याय करते हैं। 2.45 से 4 बजे तक मुख्य पंडाल में क्लास शुरू होती है। इसमें मुनि और आमजन शामिल होते हैं। शाम 5 बजे से प्रतिकमण। 6.00 बजे गुरू भक्ति और आरती की जाती है। इसके बाद आचार्यश्री ध्यान व्और सामयिक करते हैं।

Picture n Info shared by Mr. Brajesh Jain -loads thnk him!!

--- ♫ www.jinvaani.org @ Jainism' e-Storehouse ---

✿ तेरी अमृत वाणी पीकर, प्रभु जग में हुए अमर प्राणी!
तेरी महिमा कहते कहते, थक जाते हैं सुर मुनि ज्ञानी!!
प्रभु हरित वर्ण तन पावन तेरा, मरकत मणि सम सुन्दर हैं!
तू ध्यान धुरंधर आत्म स्वच्छ, तू कर्म चूर में वज्जर हैं!!

--- ♫ www.jinvaani.org @ Jainism' e-Storehouse ---

✿ हे जिनेन्द्र स्वामी, तुमको देखा तो भाव कुछ इस तरह उमड़ आया..
हे सर्वज्ञ, तुम्हारे वीतरागी स्वरुप में मैं अपना भविष्य आज पाया...

हे आदिश्वर, आपकी जीवंत प्रतिकृति को भक्तामर में पाया, तो भाव ये आया...
आज लधु-नंदन के रूप में, तीर्थंकर मुद्रा का साक्षात् प्रतिरूप झलक आया...

हे महावीर स्वामी, नयन पथ गामी की वाणी से धर्मं का मर्म अब मैं कुछ समझ पाया....
तब भाव ये आया, तुम्हारे सिवा हितोपदेशी अपना और कोई कहा, ऐसा हमने पाया...

हे जिन स्वामी, ज़ब आपके वीतराग स्वरुप को मन में ध्याया को फुला नहीं समाया...
तब ख़याल ये आया, अभी तब कहा मैं तेरे चरणों में तेरे जैसा होने को आया?

अब क्या कहू? 'इस बार फिजा कुछ अलग ही है, लग रहा अब मेरा मोक्ष निकट ही है'!:)

Composition written by: Nipun Jain:)

--- ♫ www.jinvaani.org @ Jainism' e-Storehouse ---

LIVE PICTURE FROM BHOPAL!! 5 Mint before clicked!! Watch PARAS CHANNEL NOW LIVE grand event programme:)

pic shared by mr. Brajesh jain:))

Karnataka State Government has granted Rs. 1 crore to Hampi University to set up a Jain Study Centre at Shravanabelagola in Channarayapatna taluk.

A preliminary meeting to start work on the Centre was recently held in the Jain Mutt in Shravanabelagola. Speaking on the occasion, Charukeerti Bhattaraka Swami of Jain Mutt said that Chief Minister Siddaramaiah had announced the provision of funds to set up a Jain Study Centre in Shravanabelagola.

The government had provided Rs. 1 crore to Hampi University to set up the centre. Dr. Mallika Ghanti, the Vice Chancellor, said the Centre would hold seminars and workshops on Jain philosophy and literature. ''There is a need for a detailed study on Jain inscriptions. The Centre will help scholars and students in old Mysore area,'' she said.

The University will bring a few valuable works on Jain literature and philosophy by the Mahamastakabhisheka to be held in February 2018. The Centre would have one director, four teaching staff and five research assistants, besides supporting non-teaching staff. In the first year, 40 students would be admitted, the VC said.

News in Hindi

तुम विद्या के सागर, हो आगम के आगर! तुम्ही से सुशोभित, हो जीवन का सागर!!

जब तुमको देखा समझ ये आया, महावीर स्वामी को साक्षात् पाया!
तेरी शांत मुद्रा में मैं खो गया हूँ, अनुपम छवि का दीवाना हो गया हूँ!1!

जिनवाणी को अंतस में बसाया, अंतर चक्षु मैं खुलते पाया!
तेरे मुख से जिनवाणी का मर्म, नयन पथगामी मैं बनू तुझ सम!2!

अध्यात्म सरोवर के राजहंस, निहारा तुझे जैसे आत्मा में बसंत,
तुझे देख इतना जान गया हूँ, मोक्ष मार्ग अब पहचान गया हूँ!3!

जब से देखा इस वीतराग दशा को, मान रहा हूँ धन्य स्वयं को!
कर्म बंधन कब को मैं भी तोडू, संसार सागर से नाता तोडू!4!

तुम विद्या के सागर, हो आगम के आगर! तुम्ही से सुशोभित, हो जीवन का सागर!!

composition written by: Nipun Jain:)

✿ आज आचार्य विद्यासागर जी सासंघ की चातुर्मास कलश स्थापना भोपाल, हबीबगंज जैन मंदिर में 2 बजे होगी, LIVE telecast PARAS CHANNEL पर देखना ना भूले:)) #vidyasagar

चातुर्मास कलश स्थापना के लिए भोपाल के 7 नंबर स्टाप के पास सुभाष स्कूल में लगभग 50 हजार लोगों की क्षमता का विशाल पांडाल बनाया गया है। यहां एक अति आकर्षक मंच बनाया जा रहा है जिस पर आचार्यश्री और मुनि संत विराजमान होंगे। पांडाल में अनेक एलईडी टीवी लगाई जा रही है जिससे आचार्यश्री और मुनि संत को साफ देखा जा सके। पांडाल में साउंड सिस्टम लगाया गया है। आज 24 जुलाई को दोपहर 2 बजे कलश स्थापना समारोह शुरू होगा। #Jainism

--- ♫ www.jinvaani.org @ Jainism' e-Storehouse ---

Sources
Share this page on:
Page glossary
Some texts contain  footnotes  and  glossary  entries. To distinguish between them, the links have different colors.
  1. Acharya
  2. Acharya Vidya Sagar
  3. Bhattaraka
  4. Bhopal
  5. Charukeerti Bhattaraka
  6. Crore
  7. Jain Philosophy
  8. Jainism
  9. JinVaani
  10. Karnataka
  11. Mahamastakabhisheka
  12. Mutt
  13. Mysore
  14. Nipun Jain
  15. Sagar
  16. Shravanabelagola
  17. Swami
  18. Vidya
  19. Vidyasagar
  20. आचार्य
  21. तीर्थंकर
  22. धर्मं
  23. भाव
  24. महावीर
  25. सागर
Page statistics
This page has been viewed 1179 times.
© 1997-2020 HereNow4U, Version 4
Home
About
Contact us
Disclaimer
Social Networking

HN4U Deutsche Version
Today's Counter: