29.12.2016 ►STGJG Udaipur ►News

Posted: 29.12.2016

News in Hindi

महेश सवाणी निभाया एक पिता का फर्ज, 236 अनाथ बेटियों की कराई शादी..

कभी-कभी हमें लगता है कि ये दुनिया कितनी मतलबी है, बस अपने भले के बारे में ही सोचती है। लेकिन अभी भी कई ऐसे लोग हैं जो अपने नेक कार्यों से समाज में सकारात्मक प्रभाव छोड़ रहे हैं। इसी कड़ी में गुजरात के सूरत के व्यापारी महेश सवाणी ने जो मिसाल पेश की है वो समाज के लिए कई मायनों में प्रेरक है।
गुजरात के सूरत में रविवार को एक व्यापारी ने समाज को एक शानदार संदेश दिया। महेश सवाणी नाम के एक कारोबारी ने अपने बेटे और भतीजे की शादी के साथ 236 अनाथ बेटियों का भी विवाह करवा दिया।महेश सवाणी ने ऐसा करके रईस लोगों को एक संदेश दिया कि एक बड़ी शादी के खर्च में कई बच्चियों की शादियां हो सकती है। सबसे पहले 22 दिसंबर को मेहंदी की रस्म हुई, 23 को रास-गरबा और रविवार को फेरे हुए।
महेश सवाणी ने 236 अनाथ लड़कियों की शादी की जिम्मेदारी लेकर, एक पिता का फर्ज निभाते हुए, एक साथ 236 अनाथ लड़कियों की पूरे रस्मों रिवाज के साथ शादी कराई है। साथ ही उनके बेटे और भतीजे की शादी भी इसी सामूहिक विवाह पंडाल में हुई।
महेश सवाणी निभाया एक पिता का फर्ज, 236 अनाथ बेटियों की कराई शादी..
कभी-कभी हमें लगता है कि ये दुनिया कितनी मतलबी है, बस अपने भले के बारे में ही सोचती है। लेकिन अभी भी कई ऐसे लोग हैं जो अपने नेक कार्यों से समाज में सकारात्मक प्रभाव छोड़ रहे हैं। इसी कड़ी में गुजरात के सूरत के व्यापारी महेश सवाणी ने जो मिसाल पेश की है वो समाज के लिए कई मायनों में प्रेरक है।
महेश सवाणी ने 236 अनाथ लड़कियों की शादी की जिम्मेदारी लेकर, एक पिता का फर्ज निभाते हुए, एक साथ 236 अनाथ लड़कियों की पूरे रस्मों रिवाज के साथ शादी कराई है। साथ ही उनके बेटे और भतीजे की शादी भी इसी सामूहिक विवाह पंडाल में हुई।
आजकल जहां कुछ लोग धर्म के नाम पर लोगों की एकता को तोड़ने का काम करते हैं, उस बीच इस व्यापारी ने धर्म-जाति से परे हटकर, इन अनाथ बच्चियों का पिता बनकर, एक नेक सोच को समाज के सामने रखा है। इन 236 लड़कियों में 5 लड़कियां मुस्लिम समुदाय से थीं। एक लड़की ईसाई, तो बाकि हिंदू युवतियां थी।महेश सवाणी अबतक कुल 708 लड़कियों की शादी करवा चुके हैं। आपको बता दें कि महेश हर साल ऐसी ही अनाथ बेटियों की शादी करवाते हैं।
दरअसल साल 2008 में सवाणी परिवार के ईश्वरभाई सवाणी की दो बेटियां मितुला औऱ अमृता की शादी से एक हफ्ता पहले ही ईश्वरभाई चल बसे थे जिसके बाद से महेश सवाणी ने समाज की अनाथ बेटियों के पिता की जिम्मदारी पूरी करने की ठानी और 1001 बेटियों की शादी करवाने का प्रण लिया और अब ये सभी बेटियां महेश सवाणी को पापा ही बुलाती हैं।

उनके चेहरे पर मुस्कान वापस लाने की कोशिश करें.
कड़ाके की ठण्ड पड़ने लगी है मित्रों, हम सब सर्दी से बचने के लिए गर्म कपड़ों की व्यवस्था कर रहे हैं और नए गर्म कपड़े खरीद रहे हैं...
पर वो जो नग्न अवस्था में फुटपाथ पर ठिठुरकर किस प्रकार सर्दी को सहन कर पाते हैं???

अगर आपको पता नहीं हैं तो आप एक दिन बिना कपड़े कड़ाके की रात बाहर निकले तब आपको मालूम हो जायेगा... वो नग्न बिलखते बच्चे, वो फटे कपड़े पहने वृद्धजन हमारे सामने कितनी करुणाजनक तस्वीर बनाते हैं...
पुष्करवाणी ग्रुप आपश्री से अनुरोध करता है कि चलो, आज से ही उनके चेहरे पर मुस्कान वापस लाने की कोशिश करें... आपको सेवा करने से उतनी ख़ुशी मिलेगी जितनी कही नहीं मिलती और ये यादगार पल आपको जिंदगीभर याद रहेगा...

आचार्य #चंदना, कोठारी दंपती और डॉ. #धींग
आचार्य हस्ती #करुणा अवार्ड से #सम्मानित

Share this page on: