10.02.2017 ►Acharya Shri VidyaSagar Ji Maharaj ke bhakt ►News

Posted: 10.02.2017
Updated on: 12.02.2017

Update

#MuniPramansagar #AcharyaVidyaSagar जितना वैज्ञानिक है जैन धर्म, उतना ही खरा है, मनोवैज्ञानिक भी उसका कारण... जहाँ सिखाया जाता, सिर्फ चरित्र उत्थान का मार्ग, करके संकल्प शक्ति को जागृत जिसके लिए, व्रत - नियम - संयम आदि से, मन पर लगाया जाता नियंत्रण, स्वयं को धोखा न देवें, ऐसी प्रवृति कराई जाती विकसित, जिसके लिए बताया नित्य-प्रति प्रतिक्रमण, मन-वचन-काय के योग में रहे एकरूपता, यही होता व्रत/संयम का मकसद, बना रहता जिससे विवेकपूर्ण आचरण... जब विवेकपूर्ण होता आचरण
फिर क्यों कोई करेगा अपना पतन? अर्थात नहीं, यही है सीधा सादा धर्म
अपने स्वभाव के अनुरुप आचरण..... रात्रि भोजन का त्याग, संयमित - सात्विक भोजन, सुबह उठते ही प्रार्थना आदि, सब क्रियाये रखती स्वास्थय को उत्कर्ष
जिससे न होती सोच विकृत, पॉजिटिव सोच ही तो है धर्म.... विचारो जरा! व्रत-नियम-संयम इन सबका, चारित्र उत्थान का है ये उपक्रम...

अनिल जैन "राजधानी

--- www.jinvaani.org @ Jainism' e-Storehouse ---

#Jainism #Jain #Digambara #Nirgrantha #Tirthankara #Adinatha #LordMahavira #MahavirBhagwan #RishabhaDev #Ahinsa #Nonviolence

Update

Ⓜआज का अद्भुत दृश्य.... आज पूज्य गुरुदेव जब मंगल विहार करते नयागॉव की तरफ आये तो उन्होंने सैकड़ो जैनेत्तर ग्रामवासियो ने गुरुदेव के चरण छूकर, आजीवन पर्यन्त #मांस #बीड़ी #तम्बाकू #सुपारी #शराब आदि का त्याग संकल्प पूर्वक किया...!!! जो आज आज अद्भुत क्षण था बो हम सब के लिएऔर पूरी जैन समाज के लिए अनुकरणीय है.. #MuniSudhaSagar #AcharyaVidyaSagar

Photographs By: मोहित जैन (Mayank)

--- www.jinvaani.org @ Jainism' e-Storehouse ---

#Jainism #Jain #Digambara #Nirgrantha #Tirthankara #Adinatha #LordMahavira #MahavirBhagwan #RishabhaDev #Ahinsa #Nonviolence

News in Hindi

जिज्ञासा_समाधान About COW 🐮 @ मुनि सुधासागर जी -शिष्य आचार्य विद्यासागर जी #MuniSudhasagar #Dont_Send_Cow_Slaughter_House

गायों को काटने में जितना हाथ कसाइयों का है, उससे ज्यादा उन लोगों का है, जो गाय का दूध पीने के बाद दूध न देने पर गायों को लावारिस छोड़ देते हैं, या कसाई को बेच देते हैं। गाय यदि खूंटे पर मरती है, तो वह वरदान देकर मरेगी। उसे कसाई के हाथों बेचने वालों को उसकी ऐसी बद्दुआ लगती है, कि लोग जन्म से अनाथ हो जाते हैं। उनका समूल वंश का नाश हो जाता है। गायों के संरक्षण के लिए हमें जन जागरण करना होगा। गौ रक्षकों को गांव-गांव जाकर गाय के प्रति लोगों में संवेदना भरना पड़ेगी। हम कत्लखानों को खुलने से नहीं रोक सकते तो कम से कम गौशालाएं खोलकर उन्हें कटने से बचाने का पुरुषार्थ तो कर ही सकते हैं।

--- www.jinvaani.org @ Jainism' e-Storehouse ---

#Jainism #Jain #Digambara #Nirgrantha #Tirthankara #Adinatha #LordMahavira #MahavirBhagwan #RishabhaDev #Ahinsa #Nonviolence

Have we ever thought that someone else can be right? If we try to understand what someone else is saying many of our problems can be resolved. Let’s see it with an example which is @

Share this page on: