02.03.2017 ►Acharya Shri VidyaSagar Ji Maharaj ke bhakt ►News

Posted: 02.03.2017
Updated on: 04.03.2017

Update

गुरु चरनन में ध्यान लगाऊं। #AcharyaVidyasagar
ऐसी सुमति हमे दो दाता ॥

मैं अधमाधम पतित पुरातन।
किस विधि भव सागर तर पाऊं ।

ऐसी दृष्टि हमें दो दाता।
खेवन हार गुरु को पाऊं ॥

गुरु चरनन में...

गुरुपद नख की दिव्य ज्योति से।
निज अन्तर का तिमिर मिटाऊं ।

गुरुपद पदम पराग कणों से।
अपना मन निर्मल कर पाऊं ॥

गुरु चरनन में...

शंखनाद सुन जीवन रन का
धर्म युद्ध में मैं लग जाऊं ।

गुरुपद रज अंजन आँखिन भर।
विश्वरुप हरि को लख पाऊं ॥

गुरु चरनन में...

भटके नहीं कहीं मन मेरा।
आँख मूंद जब उनको ध्याऊं ।

पीत गुलाबी शिशु से कोमल।
गुरु के चरन कमल लख पाऊं ॥

गुरु चरनन में ध्यान लगाऊं ॥

- - - - - - - www.jinvaani.org @ Jainism' e-Storehouse.

#Jainism #Jain #Digambara #Nirgrantha #Tirthankara #Adinatha #LordMahavira #MahavirBhagwan #RishabhaDev #Ahinsa

Update

आगरा मे हुई युवराज नेमी कुमार की दीक्षा -आचार्य ज्ञानसागर जी द्वारा पंचकल्यानक, आज होगी महामुनिराज नेमी सागर की आहारचर्या, लगेगा रक्तदान शिविर, समोशरण रचना एवं भव्य भजन संध्या #AcharyaGyansagar #BloodDonation

- - - - - - - www.jinvaani.org @ Jainism' e-Storehouse.

#Jainism #Jain #Digambara #Nirgrantha #Tirthankara #Adinatha #LordMahavira #MahavirBhagwan #RishabhaDev #Ahinsa

News in Hindi

आर्यिका ज्ञानमती माताजी सासंघ #MangtiTungi से विहार:) 99 crore मुनिराजो की मोक्ष स्थली माँगीतुंग़ी से 6th March ।। माताजी मालेगाँव होते हुए औरंगाबाद से कचनेर, पैठण आदि तीर्थ क्षेत्रों की वंदना करेंगी। आगामी चातुर्मास सिद्धक्षेत्र माँगीतुँग़ी में होना सम्भावित है।

आदिम तीर्थंकर प्रभो! आदिनाथ मुनिनाथ,
आधि-व्याधि अघ मद मिटे, तुम पद में मम माथ

वृषका होता अर्थ है, दयामयी शुभ धर्मं
वृष से तुम भरपूर हो, वृष से मिटते कर्म

दीनों के दुर्दिन मिटे, तुम दिनकर को देख
सोया जीवन जागता, मिटता अघ अविवेक

शरण चरण हैं आपके, तारण तरन जिहाज
भव दधि तट तक ले चलो, करुनाकर जिनराज ||

ओम् ह्रीं अर्हं श्री आदिनाथ जिनेंद्राय नमो नम: |

स्वयंभू स्तोत्र स्तुति आचार्य श्री विद्यासागर द्वारा रचित #AcharyaVidyasagar

- - - - - - - www.jinvaani.org @ Jainism' e-Storehouse.

#Jainism #Jain #Digambara #Nirgrantha #Tirthankara #Adinatha #LordMahavira #MahavirBhagwan #RishabhaDev #Ahinsa

Share this page on: