08.03.2017 ►TSS ►Terapanth Sangh Samvad News

Posted: 08.03.2017
Updated on: 09.03.2017

Update

गोगुंदा: पंचायत समिति के प्रधान ने किये मुनि वृन्द के दर्शन
प्रस्तुति: 🌻 *तेरापंथ संघ संवाद* 🌻

Video

दिनांक 08 - 03- 2017 के विहार और पूज्य प्रवर के प्रवचन का विडियो
प्रस्तुति - अमृतवाणी
सम्प्रेषण -👇

📝 धर्म संघ की तटस्थ एवं सटीक जानकारी आप तक पहुंचाए
🌻 *तेरापंथ संघ संवाद* 🌻

Update

💢⭕💢⭕💢⭕💢⭕💢⭕💢
आचार्य तुलसी की कृति...'श्रावक संबोध'

📕अपर भाग📕
📝श्रृंखला -- 233📝

*उपसंहार*

*71.*
जिनमत-मणि श्रीमद् राजचंद्र से श्रावक,
पूरे आध्यात्मिक पद के परम प्रभावक।
श्री रूप-सेठिया जैसे श्रावक-भूषण,
जिनकी चर्या जीवंत बोलती क्षण-क्षण।।

*72.*
तत्त्वज्ञ श्रावकों का यह विमल युगल है,
आस्था आचार ज्ञान का अविरल बल है।
*'श्रावक-संबोध'* संघ में मंगलमय हो,
श्री जिन शासन की *'तुलसी'* सदा विजय हो।।
(युग्मम्)

*अर्थ--* जैनशासन के रत्न श्रीमद् रामचंद्र जैसे श्रावक आध्यात्मिक क्षेत्र में कर्म प्रभावक हुए हैं। श्रावकभूषण रूपचंदजी सेठिया (सुजानगढ़) की चर्या जीवंत रही है। वह आज भी हर क्षण मुखर है। यह तत्त्वज्ञ श्रावकों की एक बेदाग जोड़ी है। उनके पास आस्था, आचरण और ज्ञान का ठोस बल था।

उक्त दोनों विशिष्ट श्रावकों के स्मृति के साथ मैं(आचार्य श्री तुलसी) *'श्रावक-संबोध'* की रचना संपन्न कर रहा हूं। श्रावक-संबोध हमारे संघ में मंगलस्वरूप बने और जैनशासन की सदा जय-विजय हो।

*भाष्य*

*श्रीमद् रामचंद्र*

सौराष्ट्र के ववाणिया बंदर नामक गांव में श्रीमद् रामचंद्र का जन्म हुआ। ईस्वी की उन्नीसवीं सदी (सन् 1867) में उन्होंने एक वणिक् परिवार में जन्म लिया। उनका नाम था लक्ष्मीनंदन। बाद में उस नाम को बदलकर रायचंद किया गया, पर उनकी प्रसिद्धि श्रीमद् रामचंद्र के नाम से हुई। उनके पिता कृष्णभक्त थे। माता में जैनधर्म के संस्कार थे। श्रीमद् रामचंद्र में उन सब संस्कारों का मिश्रण था। उनकी प्रतिभा विलक्षण थी। वे 21 वर्ष की अवस्था में ववाणिया से बम्बई (मुम्बई) चले गए और जवाहरात का व्यापार करने लगे।

*श्रीमद् रामचंद्र हीरों के व्यापारी होते हुए भी अध्यात्म जगत के उज्जवल नक्षत्र कैसे बने...? और उन्होंने अपने ज्ञान और जीवन व्यवहार से अध्यात्मपथ को किस प्रकार आलोकमय बनाया...?* जानेंगे... हमारी अगली पोस्ट में... क्रमशः।

प्रस्तुति --🌻तेरापंथ संघ संवाद🌻
💢⭕💢⭕💢⭕💢⭕💢⭕💢

👉 वीरायतन, राजगीर (बिहार): महासभा अध्यक्ष की "संगठन यात्रा"
👉 *तुसरा* 👇
1. अन्तराष्ट्रीय महिला सशक्तिकरण दिवस पर सेमिनार
2. मंगलभावना समारोह आयोजित
👉 लाछुड़ा (राज.): "अध्यात्मिक मिलन"
👉 जयपुर - फूड फार हंगर एवं ट्राय साइकिल वितरण कार्यक्रम

प्रस्तुति: 🌻 *तेरापंथ संघ संवाद* 🌻

👉 आज के मुख्य प्रवचन के कुछ विशेष दृश्य..
👉 गुरुदेव मंगल उद्बोधन प्रदान करते हुए..
👉 प्रवचन स्थल: उत्क्रमिक मध्य विधालय, झाझा (बिहार) से..

दिनांक - 08/03/2017

📝 धर्म संघ की तटस्थ एवं सटीक जानकारी आप तक पहुंचाए
प्रस्तुति - 🌻 तेरापंथ संघ संवाद 🌻

👉 वीरायतन, राजगीर (बिहार): महासभा अध्यक्ष की "संगठन यात्रा"
प्रस्तुति: 🌻 *तेरापंथ संघ संवाद* 🌻

News in Hindi

👉 पूज्य प्रवर का आज का लगभग 16 किमी का विहार..
👉 आज का प्रवास - उत्क्रमिक मध्य विधालय, झाझा
👉 आज के विहार के दृश्य..

दिनांक - 08/03/2017

📝 धर्म संघ की तटस्थ एवं सटीक जानकारी आप तक पहुंचाए
प्रस्तुति - 🌻 तेरापंथ संघ संवाद 🌻

08 मार्च का संकल्प

तिथि:- फाल्गुन शुक्ला एकादशी

गौरवशाली यह भारतवर्ष और गरिमामय यह धर्मसंघ हमारा।
कोमल नारी की दृढ़ता ने हर पन्ना इतिहास का खूब निखारा।।

📝 धर्म संघ की तटस्थ एवं सटीक जानकारी आप तक पहुंचाए
🌻 *तेरापंथ संघ संवाद* 🌻

Share this page on: