10.03.2017 ►Acharya Shri VidyaSagar Ji Maharaj ke bhakt ►News

Posted: 10.03.2017
Updated on: 12.03.2017

Update

#Holi Quote By @ #MuniKshamaSagar

Picture designed by mr Vaibhaw jain, Jagdalpur -Big thnks to Him!!

- - - - - - - www.jinvaani.org @ Jainism' e-Storehouse.

क्षुल्लक श्रीध्यानसागर महाराज जी ने आज सिद्धक्षेत्र श्री सोनागिरि जी स्थित महामुनि नंग- अनंग आदि साढ़े पाँच करोड़ मुनिराजों की निर्वाण भूमि एवं क्षेत्र के अन्य चैत्य- चैत्यालयों की वंदना की। #KshullakDhyansagar / #AcharyaVidyasagar

- - - - - - - www.jinvaani.org @ Jainism' e-Storehouse.

#Jainism #Jain #Digambara #Nirgrantha #Tirthankara #Adinatha #LordMahavira #MahavirBhagwan #RishabhaDev #Ahinsa

Update

प्राचीन गुफ़ा @ चाँदवाड़, नासिक(महाराष्ट्र) के पास #Chandvaad #AncientJainism:)

- - - - - - - www.jinvaani.org @ Jainism' e-Storehouse.

#Jainism #Jain #Digambara #Nirgrantha #Tirthankara #Adinatha #LordMahavira #MahavirBhagwan #RishabhaDev #Ahinsa

👖waow! हथकरघा में बनी जींस 😁💡👖 #Handloom #Harkardha #AcharyaVidyasagar

आचार्य श्री विद्यासागर जी महामुनिराज के आशिर्वाद से संचालित हथकरघा योजना दिन दौगुनी,रात चौगुनी वृद्धि कर रही है,इस योजना से जुड़ने के लिए सैकड़ों उच्च शिक्षित युवाओं ने लाखों की नौकरी छोड़कर भारत को पूर्ण स्वदेशी व स्वावलम्बी राष्ट्र बनाने का संकल्प लिया है आज उन सब युवाओं की मेहनत रंग ला रही है!!

जबलपुर हथकरघा के संचालक रौनक भैय्या ने आज प.पू. आचार्य श्री को अपने द्वारा हथकरघा में बनाई हुई जींस दिखाई जिसे देखते ही गुरुजी प्रसन्न हो गए व खूब आशिर्वाद दिया, आचार्य भगवंत के सानिध्य में व रौनक भैय्या के निर्देशन में अतिशीघ्र ही शहपुरा में भी हथकरघा खुलने की पूर्ण संभावना है।

- - - - - - - www.jinvaani.org @ Jainism' e-Storehouse.

#Jainism #Jain #Digambara #Nirgrantha #Tirthankara #Adinatha #LordMahavira #MahavirBhagwan #RishabhaDev #Ahinsa

साँप पिटारे में हो तो देवता नज़र आता हैं..💡🙃 #Either_U_Control_Else_Itwill_Control_U

News in Hindi

सुविधि! सुविधि के पूर हो, विधि से हो अति दूर,
मम मन से मत दूर हो, विनती हो मंजूर #SuvidhiNathBhagwan

किस वन की मूली रहा, मैं तुम गगन विशाल
दरिया में खसखस रहा, दरिया मौन निहार

फिर किस विध निरखून तुम्हे, नयन करूँ विस्फार
नाचूँ गाऊँ ताल दूँ, किस भाषा में ढाल

बाल मात्र भी ज्ञान ना, मुझमें मैं मुनि बाल
बवाल भव का मम मिटे, तुम पद में मम भाल ||

ओम् ह्रीं अर्हं श्री सुविधिनाथ जिनेंद्राय नमो नम: |

स्वयंभू स्तोत्र स्तुति आचार्य श्री विद्यासागर द्वारा रचित #AcharyaVidyasagar

- - - - - - - www.jinvaani.org @ Jainism' e-Storehouse.

#Jainism #Jain #Digambara #Nirgrantha #Tirthankara #Adinatha #LordMahavira #MahavirBhagwan #RishabhaDev #Ahinsa

Share this page on: