12.03.2017 ►TSS ►Terapanth Sangh Samvad News

Posted: 12.03.2017
Updated on: 13.03.2017

Update

प्रबुद्धजन
अर्हम क्या है?
इस मंत्र की निष्पत्ति क्या है?

अर्हम है अरिहंत
यह एक शक्ति प्रदाता बीज मंत्र
इसमें निहित है:
१ अस्तित्व की स्मृति
२ इष्ट की स्मृति
३ सहज आनंद की जागृति का सूत्र
४ मानसिक तनाव दूर करने की अर्हता
५ मनोकायिक रोगो से सुरक्षा की क्षमता
६ विकल्प मुक्ति का पथ
७ दाँए बाँए पार्श्व में चैतन्य केंद्रो को जागृत करने का माध्यम
८ ये है पिनीयल ग्लैंड जागृत करने का माध्यम

साधकगण रात को सोते समय व सुबह उठने के बाद १० मिनट के लिए ध्यान मग्न हो कर ज़रूर सुने ।

प्रशिक्षकगण ध्यान के आरम्भ के पूर्व रिक्त समय में इसका श्रवन करवाए तो ऐकाग्रता में काफ़ी उपयोगी
होगा ।

*प्रेक्षा फ़ाउंडेशन*
विभाग जैन विश्व भारती

प्रसारक: 🌻 *तेरापंथ संघ संवाद* 🌻

News in Hindi

👉 आज के मुख्य प्रवचन के कुछ विशेष दृश्य..
👉 गुरुदेव मंगल उद्बोधन प्रदान करते हुए..
👉 प्रवचन स्थल: सिमरा

दिनांक - 12/03/2017

📝 धर्म संघ की तटस्थ एवं सटीक जानकारी आप तक पहुंचाए
प्रस्तुति - 🌻 तेरापंथ संघ संवाद 🌻

👉 पूज्य प्रवर का आज का लगभग 14.7 किमी का विहार..
👉 आज का प्रवास - सिमरा
👉 आज के विहार के दृश्य..

दिनांक - 12/03/2017

📝 धर्म संघ की तटस्थ एवं सटीक जानकारी आप तक पहुंचाए
प्रस्तुति - 🌻 तेरापंथ संघ संवाद 🌻

आचार्य श्री तुलसी की अंतिम कृति *'श्रावक-संबोध'* आप सभी पाठकों के द्वारा बेहद पसंद की गई इसके लिए *तेरापंथ संघ संवाद* परिवार आप सभी का हार्दिक आभार व्यक्त करता है।🙏🏻

होली पर्व की ढेरों शुभकामनाएं देते हुए *तेरापंथ संघ संवाद* परिवार आपको अध्यात्म के रंगों से सराबोर करने की मनोसंशा लिए *देव-गुरु-धर्म* की शरण ले दो महत्त्वपूर्ण कृतियों के सिलसिलेवार पोस्ट का शुभारंभ करने जा रहा है--

*1. 'संबोध'--* आचार्य श्री तुलसी की कृति आचार बोध, संस्कार बोध और व्यवहार बोध की बोधत्रयी।

*2. 'जैन-धर्म के प्रभावक आचार्य'* जैन धर्म की श्वेतांबर और दिगंबर परंपरा के आचार्यों का जीवन वृत्त 'शासन श्री' साध्वी श्री संघमित्रा जी की कृति।

श्रावक संबोध बनाने में तेरापंथ संघ संवाद की सम्पादकीय समिति सदस्य श्रीमती कविता भंसाली (बनारस), श्रीमती चन्दा चोरडिया (विजयवाड़ा), श्रीमती राजश्री पुगलिया (कालीकट) का अथक श्रम रहा। आप तीनो के कारण TSS इस कार्य को आप तक पहुंचाने में योगभूत बना। तीनों संपादकीय सदस्यों के प्रति साधुवाद।

प्रस्तुति -🌻 *तेरापंथ संघ संवाद* 🌻

Share this page on: