15.09.2018 ►Mumbai ►Samvatsari and Forgiveness Day Celebrated

Posted: 19.09.2018

Mumbai: 15.09.2018

Samvatsari and forgiveness day was celebrated in presence of Sadhvi Anima Shree and Sadhvi Mangal Pragya. Sadhvi Anima Shree told that Samvatsari is festival for purification of soul. We should try to stop fire of Kashay. Sadhvi Mangal Pragya explained impotence of forgiveness. Sadhvi Karnika Shree, Sadhvi Maitri Prabha, Sadhvi Sudha Prabha and Sadhvi Samatva Yasha also spoke on life of Lord Mahavir.

*कालबादेवी तेरापंथ भवन में सम्वत्सरी महापर्व एवं खमतखामणा का भव्य एवं शानदार आयोजन।*
साध्वी श्री अणिमाश्रीजी एवं साध्वी श्री मंगलप्रज्ञा जी के सांनिध्य में महाप्रज्ञ पब्लिक स्कूल के रमणीय प्रांगण में सम्वत्सरी महापर्व एवं खमत खामणा का भव्य एवं शानदार कार्यक्रम आयोजित हुआ। पूरा वातावरण अध्यात्मय बन गया।
साध्वी श्री अणिमा श्रीजी ने संबोध प्रदान करते हुए कहा सम्वत्सरी महापर्व आत्मशुद्धि का पर्व है। कषायों की अग्नि को अध्यात्मय, मैत्री, व क्षमा के शीतल जल से शांत करने की प्रेरणा देने वाला महापर्व है। ऋतुता व मृदुता का महापर्व है। आत्मानंद के महापथ अग्रसर होने का महापर्व है। जीवन की मनहर बगिया को अमृत रस का सिंचन देकर कण कण को पुलकित करने का नाम है खमत खामणा जिन खताओं ने दूर व निकट के किसी भी रिश्ते में कटुता एवं तनाव का जहर घोल दिया हो उन्ही रिश्तों में मार्दव व मैत्री का मिठास भरने वाले आत्म वैभव का नाम है, खमत खामणा । खमत खामणा पर्व से पूरी परिषद को संबोध व प्रेरक दिशा बोध मिले मंगलकामना ।
साध्वी श्री अणिमा श्रीजी ने सम्वत्सरी के दिन चन्दन बाला के रोचक इतिवृत्त की प्रस्तुति दी। साध्वी मंगलप्रज्ञा जी ने सम्वत्सरी महापर्व की महत्ता को व्यथाभित करते हुए कहा क्षमा हमारे इम्यून सिस्टम को पावरफुल बनाता है। हम क्षमा का अभेद्य कवच पहनकर हर दृष्टि से सुरक्षित हो सकते है। साध्वी कर्णिका श्रीजी ने तीर्थकर चरित्र का सटीक विश्लेषण किया। साध्वी सुधाप्रभाजी ने जैन धर्म के प्रभावक आचार्यो की प्रभावशाली प्रस्तुति दी। साध्वी मैत्री प्रभाजी ने भगवान महावीर के साधना काल का मार्मिक विवेचन किया। साध्वी स्मतव्यशाजी ने आगम वाणी का रसपान करवाया। तेयुप व महिला मंडल दक्षिण मुंबई ने सुंदर गीत का संगान किया। खमत खामणा के दिन महाप्रज्ञ विधा निधि फाउंडेशन अध्यक्ष किशनलाल डागलिया, तेयुप अध्यक्ष रवि डोसी, संयोजिका गुंजन सुराणा, भवरलाल कर्णावट, प्रदीप ओसवाल, मुंबई महिला मंडल मंत्री श्वेता सुराणा, ने विचार व्यक्त किए। मंच का कुशल संचालन दिनेश धाकड़ ने किया। साध्वी वृन्द ने खमत खामणा के गीत की प्रस्तुति दी। यह जानकारी तेयुप के मीडिया प्रभारी नितेश धाकड़ ने दी।

Share this page on: