16.05.2011 ►Tapra, Balotra, Pachpadara & Jasol ◄News

Posted: 16.05.2011
Updated on: 21.07.2015

News In English

Location:

Tapra

News:

Amrit Mahotsav Will Be Celebrated In Presence Of Muni Madankumar

Location:

Balotara

News:

Follow The Way Shown By Acharya Mahashraman ◄ Muni Suvrat Kumar

Location:

Pachpadara

News:

Acharya Mahashraman Dedicated To Humanity ◄ Sadhvi Kamalprabha

Location:

Jasol

News:

Amrit Mahotsav celebrated in presence of Sadhvi Chandkumari, Sadhvi Gulabkanwar, Sadhvi Tilakshree, Sadhvi Ujjwalrekha and Sadhvi Labdhishree. Twenty-five nuns participated in function. Five Mumukshu presented song.

News in Hindi:

बालोतरा-पचपदरा-जसोल- अमृत महोत्सव विभिन्न धार्मिक कार्यक्रमों का हुआ आयोजन-

संतों ने बरसाई अमृतवाणी

मुनि मदन कुमार जी

बालोतरा  15 मई 2011 (जैन तेरापंथ समाचार ब्योरो राजस्थान कार्यालय)

तेरापंथ धर्म संघ के 11वें आचार्य महाश्रमण का अमृत महोत्सव निकटवर्ती टापरा स्थित तेरापंथ भवन में सोमवार सुबह 9 बजे मुनि मदन कुमार के सान्निध्य में आयोजित होगा। 

तेयुप अध्यक्ष अरविंद गुलेच्छा व विनोद गोठी ने बताया कि समारोह के मुख्य अतिथि पचपदरा विधायक मदन प्रजापत, ढाणा महंत नारायण भारती महाराज, टापरा सरपंच मथरा देवी, जसोल प्रवास व्यवस्था समिति संयोजक गौतमचंद सालेचा व बालोतरा नगरपालिका पार्षद सुशीला देवी कई नागरिक उपस्थित रहेंगे। गुलेच्छा व गोठी ने श्रद्धालुओं से महोत्सव में अधिकाधिक संख्या में भाग लेने का आह्वान किया है।

बालोतरा तेरापंथ भवन में आयोजित अमृत महोत्सव के दौरान उपस्थित श्रद्धालु (इनसेट) व्याख्यान देते मुनि suvrt

अमृत महोत्सव विभिन्न धार्मिक कार्यक्रमों का हुआ आयोजन- मुनि सुव्रत कुमार

बालोतरा 15 मई 2011 (जैन तेरापंथ समाचार ब्योरो राजस्थान कार्यालय)

आचार्यमहाश्रमण के 50वें वर्ष में प्रवेश करने के उपलक्ष्य में जैन श्वेतांबर तेरापंथ सभा की ओर से गौर का चौक स्थित तेरापंथ भवन में अमृत महोत्सव व प्रथम पद्माभिषेक समारोह रविवार को हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। इस अवसर पर मुनि सुव्रत कुमार ने कहा कि आचार्य महाश्रमण का जीवन रत्नाकर की तरह अनेक गुणों से समाहित है। वे तेरापंथ के एक महान साधक है। उन्होंने श्रावकों से कहा कि केवल उनकी गुण महिमा नहीं करें बल्कि उनके बताए मार्गों पर चलने का प्रयास करें। सभा के मंत्री गौतम वेदमूथा ने बताया कि मंगलाचरण से प्रारंभ हुए कार्यक्रम में डॉ. महावीर गोलेच्छा, राजेंद्र कुमार सेठिया, चंपालाल गोलेच्छा, ओमप्रकाश बांठिया, भंवरलाल सालेचा, घेवरचंद मेहता, प्रकाश श्रीश्रीमाल, संजय वेदमूथा, जवेरीलाल सालेचा, गौतम वेदमूथा, गुणवंती देवी श्रीश्रीमाल, पुष्पा देवी ओस्तवाल, कमला देवी ओस्तवाल व गगनलता जीरावाला ने भी अपने भावों की प्रस्तुति दी। संघगान के साथ कार्यक्रम संपन्न हुआ। कार्यक्रम का संचालन गौतमचंद ने किया।

 

महाश्रमण मानवता के लिए समर्पित व्यक्तित्व-  साध्वी कमलप्रभा 

पचपदरा 15 मई 2011 (जैन तेरापंथ समाचार ब्योरो राजस्थान कार्यालय)

 इसी प्रकार तेरापंथ भवन पचपदरा में आयोजित कार्यक्रम के दौरान साध्वी कमलप्रभा ने कहा कि आचार्य महाश्रमण मानवता के लिए समर्पित व्यक्तित्व है। उनकी प्रज्ञा व प्रशासनिक सूझबूझ बेजोड़ है। आचार्य के गुणों के कारण ही आज तेरापंथ संघ ही नहीं अपितु पूरा धार्मिक जगत उनकी तरफ आशा भरी नजरों से निहार रहा है। कार्यक्रम में परमार्थी शिक्षण संस्थान के संयोजक डूंगरमल बागरेचा, सभाध्यक्ष नेमीचंद चौपड़ा, मंत्री जिनेश चौपड़ा व कार्यकर्ता दिलीप मदाणी ने भी अपने भावों की अभिव्यक्ति दी। साध्वी मंजूलाश्री ने आचार्य महाश्रमण के बहुआयामी कार्यक्रमों को आगे बढ़ाने के विषय में जानकारी दी। मंगलाचरण दीपिका मदाणी ने प्रस्तुत किया। कार्यक्रम का संयोजन साध्वी ललितकला ने किया। इस दौरान ज्ञानशाला के बच्चों को पारितोषिक भी वितरित किए गए। 

 

साध्वी चांदकुमारी, साध्वी गुलाबकंवर, साध्वी तिलकश्री, साध्वी उज्ज्वलरेखा साध्वी लब्धिश्री के नेतृत्व  जसोल में अमृत महोत्सव, 

साध्वी चांद कुमारी, साध्वी गुलाबकंवर, साध्वी तिलकश्री, साध्वी उज्ज्वलरेखा व साध्वी लब्धिश्री, 25 साध्वियों ने कार्यक्रम में भाग लिया.

जसोल 15 मई 2011 (जैन तेरापंथ समाचार ब्योरो राजस्थान कार्यालय)

 तेरापंथ भवन जसोल में अमृत महोत्सव हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। साध्वी चांदकुमारी, साध्वी गुलाबकंवर, साध्वी तिलकश्री, साध्वी उज्ज्वलरेखा व साध्वी लब्धिश्री के नेतृत्व में 25 साध्वियों ने कार्यक्रम में भाग लिया।

कार्यक्रम के प्रारंभ में साध्वी तितिक्षाश्री, साध्वी स्मितप्रभा, साध्वी आराधनाश्री व साध्वी महिमाश्री ने मंगलाचरण प्रस्तुत किया।

कार्यक्रम में साध्वी उज्ज्वलरेखा ने कहा कि महाश्रमण 12 प्रकार के तपों में तपकर महातपस्वी बने हैं। अहिंसा यात्रा के माध्यम से वे जन-जन में नशामुक्ति की प्रेरणा प्रदान कर रहे हैं।

साध्वी चांद कुमारी ने कहा कि महाश्रमण एक शलाका पुरूष होने के साथ ही दिव्य शक्तियों के धारक है। अपने संप्रेषण के द्वारा वे जन-जन का मार्ग प्रशस्त कर रहे हैं। प्रोफेसर प्रदीप मोदी ने कहा कि प्राकृतिक संसाधनों का दुरूपयोग न करें तभी हम आचार्य को अमृत महोत्सव की सच्ची भेंट दे सकेंगे।

कार्यक्रम में साध्वी गुलाबकंवर, साध्वी तिलकश्री, साध्वी लब्धिश्री ने आचार्य को धर्मसंघ के अधिनेता बताते हुए उनके जीवन से प्रेरणा लेने की बात कही। 5 मुमुक्षु बहनों ने समूह गीत प्रस्तुत किया।

तेरापंथ भवन जसोल में उपस्थित श्रद्धालु (इनसेट) अमृत महोत्सव के दौरान व्याख्यान देती साध्वी कमलप्रभा

कार्यक्रम में साध्वी भानुकुमारी, साध्वी संकल्पप्रभा, साध्वी हेमयशा, साध्वी हेमरेखा, साध्वी हेमलता सहित कई लोगों ने भी अपने भावों की अभिव्यक्ति दी। इस अवसर पर गौतमचंद सालेचा, शंकरलाल ढेलडिय़ा, दीपंचद बोकडिय़ा, नेमीचंद, गौतमचंद लूंकड़ सहित कई श्रावक-श्राविकाएं उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन मुमुक्षु मर्यादा बहन ने किया। 

Share this page on: