18.05.2011 ►Lord Budha Is Symbol Of Strong Will Power ◄Acharya Mahashraman

Posted: 18.05.2011
Updated on: 02.07.2015

News In English

Location:

Rajsamand

Headline:

Lord Budha Is Symbol Of Strong Will Power ◄Acharya Mahashraman

News:

Acharya Mahashraman was making pravchan in Tasol village on occasion of Budha Purnima. Mantri Muni Sumermal 'Ladnun', Sadhvi Pramukha Kanakprabha and Sadhvi Vishrutvibha also spoke. Mahashraman Bhavan in Tashol was inaugurated after the pravchan.

Photo 1:

Acharya Mahashraman addressing people and Mantri Muni Sumermal sitting beside him

Photo 2:

Ladies audience

Photo 3:

Inauguration function of Mahahshramand Bhavan

News in Hindi:

भगवान बुद्ध दृढ़ संकल्प व मनोबल के प्रतीक’-आचार्य महाश्रमण

राजसमंद 18मई 2011 (जैन तेरापंथ न्यूज ब्योरो)

राजसमंद। तासोल में धर्मसभा में प्रवचन देते आचार्य महाश्रमण।

तेरापंथ धर्म संघ के ग्यारहवें आचार्य महाश्रमण ने कहा कि भगवान बुद्ध महान पुरुष थे। वे करुणा के अवतार और दृढ़ मनोबल व दृढ़ संकल्प के प्रतीक थे।आचार्य मंगलवार को निकटवर्ती तासोल गांव में प्रवचन दे रहे थे। उन्होंने प्रवचन के दौरान वैशाखी पूर्णिमा के महत्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि आज का दिन भगवान बुद्ध से जुड़ा हुआ है। उन्होंने कहा कि भगवान बुद्ध ने अपने साधना काल में यह संकल्प लिया कि जब तक मुझे बोधि प्राप्त नहीं होगी तब तक मैं आसन परिवर्तन नहीं करूंगा, जो उनके दृढ़ संकल्प का परिचायक था। आचार्यश्री ने कहा कि आज समय का बड़ा महत्व है। उन्होंने कहा कि समय का नियोजन सार्थक कार्यों में होना चाहिए। संतों के लिए शास्त्रों में कहा गया है कि अपना अधिकांश समय ध्यान और स्वाध्याय में लगाएं। उन्होंने कहा कि जो व्यक्ति धर्म ध्यान में लीन रहता है वह पाप कार्य की प्रवृत्ति से बच जाता है। आचार्यश्री ने इस अवसर पर करीब चार वर्ष पूर्व दीक्षित पांच मुनियों का गुणगान करते हुए कहा कि ये मुनि जीवन में संयम साधना का और ज्ञानाराधना का और अधिक विकास करके रहेंगे। इस दौरान मुनि नचिकेता, मुनि गौतम कुमार, मुनि अनुशासन कुमार व मुनि मृदु कुमार ने आचार्यश्री की अभिवंदना की।

 

राजसमंद। तासोल गांव में धर्मसभा में उपस्थित श्राविकाएं।

 

धर्म सभा में मंत्री मुनि सुमेर मल, साध्वी प्रमुखा कनकप्रभा एवं मुख्य नियो जिका साध्वी विश्रुत विभा ने भी प्रवचन दिए। धर्मसभा में तेरा पंथ महिला मंडल एवं कन्या मंडल तासोल ने अणुव्रत पर आधारित एक रोचक संवाद प्रस्तुत किया। संचालन मुनि दिनेश कुमार ने किया।

 

तासोल गांव में महाश्रमण भवन के उद्घाटन कार्यक्रम में उपस्थित श्रावक 

कार्यक्रम के बाद आचार्यश्री महाश्रमण ने तासोल में महाश्रमण भवन का लोकार्पण किया। इससे पूर्व आचार्यश्री के तासोल में प्रवेश पर श्रावकों ने उनकी अगवानी की। सुबह साढ़े सात बजे गांव में अहिंसा रैली भी निकाली गई। कार्यक्रम में ख्याली लाल तातेड़, जैन श्वेतांबर तेरा पंथी सभा मुंबई के अध्यक्ष भंवरलाल कर्णावट, मंत्री दिनेश कुमार सुतरिया, मेवाड़ कांफ्रेंस के अध्यक्ष बसंतीलाल बाबेल, आचार्य श्रीमहाश्रमण चातुर्मास व्यवस्था समिति केलवा के अध्यक्ष महेंद्र कोठारी आदि मौजूद थे।

Share this page on: