12.07.2011 ►Kelwa ►Mohaniya Karma is King Of All Karma◄ Acharya Mahashraman

Posted: 12.07.2011
Updated on: 02.07.2015

News in English:

Location:

Kelwa

Headline:

Mohaniya Karma is King Of All Karma◄ Acharya Mahashraman

News:

Anger can be controlled by doing Sadhana for peace. Preksha Meditaiton can be useful for Sadhana. Acharya Mahashraman told people to understand theory of Karma. Mohaniya karma is king of all karma. Anger, Greed and deceit all are member of family of Mohaniya karma.

News in Hindi:

‘मस्तिष्क क्षीण होने से शरीर भी क्षीण हो जाता है’-आचार्य श्री

आचार्य श्री केलवा में स्वागत समारोह के द्वितीय चरण में आयोजित कार्यक्रम में बोल रहे थे

केलवा 12 जुलाई 2011 तेरापंथ समाचार ब्योरो केलवा

आचार्य महाश्रमण ने मोहकर्म के महत्व के बारे में बताते हुए कहा कि अगर व्यक्ति का मस्तिष्क क्षीण हो जाए तो उसका शरीर भी क्षीण हो जाता है। अगर सेनापति मर जाए, तो सेना भी खत्म हो जाती है। इसी प्रकार मोहनीय कर्म अगर क्षीण हो जाए, तो अन्य कर्म भी क्षीण हो जाते हैं।

आचार्य श्री केलवा पदार्पण पर स्वागत समारोह के द्वितीय चरण में सोमवार को आयोजित कार्यक्रम में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि केवल अनुराग, मोह नहीं है, गुस्सा, अहंकार, माया, लोभ आदि भी मोह ही हैं। यह मोह का परिवार है। मोहनीय कर्म अगर प्रबल है, तो क्षमा का भाव दब जाता है। ध्यान साधना से व्यक्ति अपने विकारों को नष्ट कर सकता है। व्यक्ति उपशम की साधना से क्रोध को जीत सकता है। विश्व जनसंख्या दिवस पर आचार्य महाश्रमण ने कहा कि जनसंख्या वृद्धि से हानि होती है। इसके साथ असंयम अगर बढ़ जाए तो यह एक चिंतनीय स्थिति पैदा कर देती है।

केलवा वासियों में छाया उत्साह:

मंत्री मुनि सुमेरमल ने कहा कि राम के अयोध्या आने से लोगों में जो उत्साह पैदा हुआ था वही उत्साह केलवा वासियों में आचार्य महाश्रमण के आगमन को लेकर छाया हुआ है। कार्यक्रम में मुंबई महिला मंडल, किरण कोठारी, पुष्पा मादरेचा, वीणा चपलोत, ज्योति संचेती आदि ने भी अपने भावों की प्रस्तुति दी।

कन्या मंडल केलवा ने ‘तेरापंथ रा भाग्य विधाता....’, ‘पधार्या म्हारा गांव...’ की भावपूर्ण प्रस्तुति देकर श्रद्धालुओं को भाव विभोर कर दिया

Share this page on: