13.07.2011 ►Relmagra ►Philosophy Of Acharya Bhikshu Not Only For Jains◄ Sadhvi Shanta Kumari

Posted: 13.07.2011
Updated on: 21.07.2015

News in English:

Location:

Relmagra

Headline:

Philosophy Of Acharya Bhikshu Not Only For Jains◄ Sadhvi Shanta Kumari

News:

Thinking of Acharya Bhikshu is useful for all human being. Acharya Bhikshu give new revolution when institution of religion losing their shine. Gyanshala and Kanyamandal presented songs. Sadhvi Chandravati, Sadhvi Lalityasha, Sadhvi Chetyaprabha gave information about daily activity during Chaturmas.

News in Hindi:

आचार्य भिक्षु का तत्व दर्शन केवल जैनों के लिए नहीं: साध्वी शांता कुमारी

Jain Terapnth News रेलमगरा के तेरापंथ सभा भवन में बोधि दिवस पर दिए प्रवचन
रेलमगरा 13 जुलाई तेरापंथ न्यूज ब्योरो कार्यालय संवाददाता
आचार्य भिक्षु ने उस युग में धर्म क्रांति की, जब धार्मिक संस्थाओं में एक प्रकार की जड़ता व्याप्त हो रही थी। आचार्य भिक्षु का चिंतन, तत्व दर्शन केवल जैन या तेरापंथी लोगों के लिए ही उपयोगी नहीं है बल्कि पूरी मानव जाति के लिए व्यापक राह है।यह विचार रेलमगरा उपखंड मुख्यालय के तेरापंथ सभा भवन में बुधवार को बोधि दिवस पर रेलमगरा में वर्षावास कर रही साध्वी शांता कुमारी ने धर्मसभा के दौरान कही। कार्यक्रम की अध्यक्षता सभाध्यक्ष रोशनलाल टुकलिया ने की। कार्यक्रम का प्रारंभ कन्या मंडल के मंगलाचरण से हुआ। महिला मंडल एवं ज्ञानशाला के द्वारा गीत प्रस्तुत किया गया। कार्यक्रम में साध्वी चंद्रावती, साध्वी ललितयशा एवं साध्वी चैत्यप्रभा ने प्रवचन दिए।मंत्री प्रकाश मेहता ने बताया कि वर्षावास कर रही साध्वी के सानिध्य में तीनों समय प्रार्थना, व्याख्यान, वंदना एवं रात्रिकालीन प्रवचन हो रहे हैं।

Share this page on: