01.12.2011 ►Nathdwara ►Talks Held on Jain Unity

Published: 01.12.2011
Updated: 17.01.2013

Short News in English

Location:Nathdwara
Headline:Talks Held on Jain Unity
News:Muni Jatan Kumar and Muni Anand Kumar held talk with Ravindra Muni and Dheeraj Muni of Shraman sangh. Muni Jatan Kumar told that is was dream of Acharya Tulsi that Jain religion become Jan Dharam means religion of people. During Ahimsa Yatra we felt that dream comes true as people from all section joined it.

News in Hindi

जैन एकता व साम्प्रदायिक सौहार्द पर वार्ता

जैन एकता व साम्प्रदायिक सौहार्द पर वार्ता

नाथद्वारा ०१ दिसम्बर २०११ जैन तेरापंथ न्यूज ब्योरो

मुनि जतनकुमार ‘लाडनूं’ एवं आनंद कुमार ‘कालू’ के साथ श्रमण संघ के रवींद्र मुनि व धीरज मुनि का मंगलवार को नाथद्वारा के बस स्टैंड स्थित अमृत सदन में मिलन हुआ।

यहां सांप्रदायिक सौहार्द व समसामयिक विषय पर चर्चा हुई। मुनि जतन कुमार ने चर्चा के दौरान कहा कि आचार्य तुलसी का एक सपना था कि जैन धर्म जन धर्म बने। उसका साक्षात्कार हमने आचार्य महाश्रमण की मेवाड़ अहिंसा यात्रा के दौरान देखने को मिला। वहीं मुनि रवींद्र ने आचार्य महाश्रमण के व्यक्तित्व व कृतत्व पर चर्चा की। मुनि आनंद कुमार ने कहा कि आचार्य महाश्रमण अपने दो गुरु आचार्य तुलसी, आचार्य महाप्रज्ञ के सपनों को साकार रूप देने के लिए अहिंसा यात्रा के प्रणेता है। धीरज मुनि ने आचार्य महाश्रमण के गुणों पर विस्तार से जानकारी दी। इस मौके पर मांगीलाल कर्णावट, नारायण गायरी, शंकर गरासिया, सुरेश झावक, ललिता झावक, मंजू झावक, पुष्पा डागलिया, खुश सामोता, इशिका सामोता सहित अनेक श्रावक-श्राविकाएं मौजूद थे।


Sources

Jain Terapnth News

News in English: Sushil Bafana

Share this page on:
Page glossary
Some texts contain  footnotes  and  glossary  entries. To distinguish between them, the links have different colors.
  1. Acharya
  2. Acharya Tulsi
  3. Ahimsa
  4. Ahimsa Yatra
  5. Anand
  6. Jain Terapnth News
  7. Muni
  8. Muni Anand Kumar
  9. Muni Jatan Kumar
  10. Nathdwara
  11. Sangh
  12. Shraman
  13. Sushil Bafana
  14. Tulsi
  15. आचार्य
  16. आचार्य तुलसी
  17. आचार्य महाप्रज्ञ
  18. आचार्य महाश्रमण
  19. श्रमण
Page statistics
This page has been viewed 1054 times.
© 1997-2020 HereNow4U, Version 4
Home
About
Contact us
Disclaimer
Social Networking

Today's Counter: