13.10.2015 ►Acharya shri Vishudha sagar ji ►News

Posted: 13.10.2015
Updated on: 18.11.2015

News in Hindi

जय जिनेन्द्र
12/10/15
अब विशुद्ध वाणी में" चिंता रहस्य"
उगते यौवन के युवा जरूर पढ़े।
सुभावना
चिन्ता के गहन चक्रव्युह में फंसकर सैकड़ो युवाओ ने 'आत्महत्या'का मार्ग पकड़ लिया है।इस समस्या से युवापीढ़ी और आम जनमानस को उबारने के लिये, अत्यंत सरल और बोधगम्य संकलित कृति "चिंता रहस्य" विषपान किये व्यक्ति के लिए संजीवनी है।
✏संकलनकर्ता एवं प्रस्तुतकार श्रमण मुनि सुव्रत सागर जी महाराज ने श्रेष्ठ कृति "चिंता रहस्य " को युवा पीढ़ी और समाज तक पहुँचाकर एक बहुत ही स्तुत्य कार्य किया है।।
शुभाकांक्षी -- सुरेशचंद्र जैन (एडवोकेट) विदिशा (म.प्र.)
इस पुस्तक के
कृतिकार-चर्या शिरोमणि आचार्य विशुद्ध सागर जी महाराज

स्वयं ही महाशक्त्ति
चिंता रहस्य
Mystery of tension
भैया!
आप अपने में निर्णय करे कि विश्व में आत्मशक्ति एक महाशक्ति है । प्रत्येक मानव के अंदर एक दानव और एक सच्चा देवता या एक अच्छा इंसान बनने की शक्ति सम्पन्नता है।जैसे " बीज से बृक्ष उद् घाटित होता है, वैसे ही एक आत्मा से महात्मा और परमात्मा उद् घाटित होता है"।
श्रमण संस्कृति सेवा समिति

Share this page on: