17.02.2017 ►Acharya Shri VidyaSagar Ji Maharaj ke bhakt ►News

Posted: 17.02.2017
Updated on: 18.02.2017

Update

प्रश्न: क्या देवी-देवता किसी की मन्नत पूरी कर सकते है? #MuniAbhaysagar

उत्तर: जैन-दर्शन की स्पष्ट मान्यता है कि देवी-देवता किसी को कुछ नहीं देते । जो कुछ मिलता है, वह अपने पुण्य से ही मिलता है । कोई भी शक्ति केवल निमित्त बन जाती है । उसे मुफ्त में ही श्रेय मिल जाता है ।

व्यक्ति का पूण्य ही बलवान है । कोई किसी को कुछ दे नहीं सकता । न कोई किसीकी सुखना पूरी करता है और न मनौती । जिसका पूण्य होगा उसकी सुखना भी पूरी हो जाती है और मनौती भी । उसमें संयोग या निमित्त के रूप में देवी-देवता या फिर अन्य कोई भी हो सकता है ।

इसिहास में बहुत से प्रसंग मिलते है जहां पुण्यशाली आत्माओं को भी घोर कष्टों का सामना करना पड़ा, किन्तु कोई देवी-देवता उनकी रक्षा के लिए नहीं आया ।

सीता सती को जब रावण ले जा रहा था तो किसी भी देव ने उनकी रक्षा नहीं की, अंततः अपने ही पूण्य का उदय हुआ तो लंका विजय करके राम ने सीता को प्राप्त किया ।

द्वारिका नगरी जली तो कोई देवता उसे बचा नहीं सका, जबकि द्वारिका तो देवताओं ने ही बसाई थी ।

सनत्कुमार चक्रवर्ती की सेवा में १६००० देव हाजिर रहते थे, फिर भी उनके शरीर में जब रोग आये तो कोई भी देव उन रोगों से उनकी रक्षा न कर सका ।

ऐसे ही चंदना, सुभद्रा आदि सतियों के उदहारण मिलते है ।

अंततः व्यक्ति का अपना ही पूण्य और पुरुषार्थ काम आता है ।

--- www.jinvaani.org @ Jainism' e-Storehouse ---

#Jainism #Jain #Digambara #Nirgrantha #Tirthankara #Adinatha #LordMahavira #MahavirBhagwan #Rishabhdev #AcharyaVidyasagar #Ahinsa #Nonviolence #AcharyaShri

#Broad_Sense_Ahinsa 💡Ahimsa is a principle that Jains teach and practice not only towards human beings but also towards animals and all nature. The scriptures tell us: "Do not injure, abuse, oppress, enslave, insult, torment, torture or kill any creature or living being." ⚠️

Update

अमेरिका की मोहिनी जैन ने कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी को जैन धर्म शिक्षा / अध्ययन हेतु 10.50 करोड़ का अनुदान दिया! Mohini Jain in the US has made a grant of USD 1.5 million to a prestigious American University (University of California) to advance studies in Jainism. #MohiniJainUC #UniversityOfCaliforniaJainism

मोहिनी जैन द्वारा दिये गये अनुदान से निश्चित रूप से विदेशों में जैन धर्म के सिद्धांतों का प्रचार - प्रसार होगा! मोहिनी जैन बहुत - बहुत धन्यबाद, साधुबाद...

NDTV NEWS www.ndtv.com/indians-abroad/us-university-receives-usd-1-5-million-grant-for-jainism-studies-1659979

#Jainism #Jain #Digambara #Nirgrantha #Tirthankara #Adinatha #LordMahavira #MahavirBhagwan #RishabhaDev #Ahinsa #Nonviolence

US University Receives USD 1.5 Million Grant For Jainism Studies
An Indian-origin philanthropist in the US has made a grant of USD 1.5 million to a prestigious American University to advance studies in Jainism.

News in Hindi

⚠️ Dedicated to Jainism and its de facto follower Acarya Sri Vidyasagara. D page about to cross 60,000 LIkeS 60k 💡

Acharya Shri VidyaSagar Ji Maharaj ke bhakt
आचार्य श्री विद्यासागर जी -De facto follower of Jainism who believes into Rational Perception, Rational Knowledge and Rational Conduct (united)

Exclusive photograph @ Sagar ⚠️ www.jinvaani.org ⚠️ प्रवचन डाउनलोड के लिए उपलब्ध है आचार्य श्री विद्यासागर जी, आचार्य श्री वर्धमानसागर जी, आचार्य श्री विशुद्धसागर जी, मुनि श्री समयसागर जी, मुनि श्री नियमसागर जी, मुनि श्री सुधासागर जी, मुनि श्री क्षमासागर जी, मुनि श्री प्रमाणसागर जी, क्षुल्लक श्री ध्यानसागर जी, पूज्य गणेश प्रसाद वर्णी जी, पूज्य जिनेन्द्र वर्णी जी आदि विशिस्ट व्यक्तियो के प्रवचन का विभिन्न विषयो पर अकल्पनीय तथा विपुल भण्डार मौजूद है जो कि लगभग 400GB का है तथा ऊपर दिए गए सब महाराज लोगो का बहुत बहुत बड़ा प्रवचन का संग्रह है जो कि लिखा नि नहीं जा सकता इतना बड़ा है! तथा साथ में श्री रविन्द्र जैन आदि के अध्यात्मिक भजन संग्रह, पूजन, स्तोत्र, स्तुति, स्तवन, मंत्र आदि का भी बहुत बड़ा भण्डार इस वेबसाइट पर मौजूद है! आप सब इस वेबसाइट से डाउनलोड करे और ज्यादा से ज्यादा लोगो को बताए ताकि सब लोग इसका पूर्णरूप से फायेदा ले सके!

*अगर आप ऐसे किसी व्यक्ति जो जानते है जो इन प्रवचन को सुनना चाहते है पर डाउनलोड नहीं कर सकते या डाउनलोड नहीं करपारहे परन्तु वे सुनना चाहते है अगर उनको CD माध्याम से मिल जाए, ऐसी परिस्थिति के लिए www.facebook.com/AcharyaVidyasagarJi पेज के एडमिन द्वारा CD को कूरियर द्वारा भेज सकते है:)

--- www.jinvaani.org @ Jainism' e-Storehouse ---

#Jainism #Jain #Digambara #Nirgrantha #Tirthankara #Adinatha #LordMahavira #MahavirBhagwan #RishabhaDev #Ahinsa #Nonviolence

Share this page on: