19.03.2017 ►STGJG Udaipur ►News

Posted: 19.03.2017

News in Hindi

जैन संत मुनि तरुण सागर जी महाराज का मानना है कि ‘हर तीसरा भारतीय नागरिक भ्रष्ट है, और सिर्फ 10 फीसदी लोग पूरी तरह से ईमानदार हैं।’ उन्होंने कहा कि बाकी के 50-60 फीसदी लोग भ्रष्टाचार के कगार पर हैं। जैन मुनि टीवी शो ‘आप की अदालत’ में रजत शर्मा के सवालों का जवाब दे रहे थे,

बड़ी चोरियां करनेवाले लोकसभा-विधानसभा में बैठे हैं

जब उनसे पूछा गया कि उन्होंने क्यों हरियाणा और मध्य प्रदेश की विधानसभाओं में विधायकों को सम्बोधित किया, जबकि उन्होंने ऑन रिकॉर्ड कहा था कि विधानसभाओं और संसद में ‘चोर और लुटेरे हैं’। उन्होंने कहा, ‘(मुझे विधासनभाओं को) अड्रेस करना चाहिए, अड्रेस की जरूरत उनको ही है ना, मंदिरों की जरूरत पापियों को है, पुण्यात्माओं को नहीं है। जो पापी हैं, उनको भगवान की पूजा के लिए पहले आना चाहिए।...(जहां तक चोर लुटेरे वाली टिप्पणी का सवाल है) मुझे लगता है कि जिन्होंने छोटी-छोटी चोरियां की, वे जेलों में बंद हैं, और जिन्होंने बड़ी-बड़ी चोरियां की, वो लोकसभा, विधानसभाओं में बैठे हैं।’

केवल 10 फीसदी​ लोग पूरी तरह से ईमानदार

​जैन मुनि ने कहा, ‘हर तीसरा भारतीय नागरिक भ्रष्ट है। यानी 30 फीसदी लोग भ्रष्ट हैं। 50-60 फीसदी लोग भ्रष्टाचार के कगार पर हैं। सिर्फ 10 फीसदी लोग हैं जिन्हें आप पूरी तरह से ईमानदार कह सकते हैं।’ मुनि तरुण सागर ने कहा, उन्हें दिल्ली विधानसभा से भी निमंत्रण मिला था, लेकिन बाद में उसे रद्द कर दिया गया। उन्होंने कहा, ‘दिल्ली विधानसभा ने मुझे निमंत्रण दिया था। चीफ मिनिस्टर, स्पीकर रामनिवास गोयल, दोनों गए थे, मैंने स्वीकृति दी, जाना तय हो गया था। किस वजह से रद्द किया गया मुझे मालूम नहीं है। जो भी मुझे बुलाएगा, जाऊंगा, अगर लोकसभा में भी मुझे बुलाएंगे, वहां भी जाऊंगा।’

सियासत से मेरा कोई लेना देना नहीं

यह पूछे जाने पर कि क्या वह राजनीति में आने का इरादा रखते हैं, उन्होंने इससे साफ इनकार करते हुए कहा, ‘सियासत से मेरा कोई लेना देना नहीं है। मैं दिगम्बर मुनि हूं, उनकी बहुत ऊंची स्थिति होती है। राजनीतिक विषयों पर कमेंट हमें करना चाहिए। संत समाज का गुरू होता है, पूरे समाज का दायित्व उसपर होता है। समाज में गलत को गलत बोलना कोई गुनाह नहीं है।’ उन्होंने कहा, ‘मैं राजनीति में आके क्या करूंगा? मान लीजिए मैं प्रधानमंत्री भी बन जाता। मैं वह बन गया हूं कि प्रधानमंत्री भी आकर नमस्कार करेगा, प्रणाम करेगा। जो जनता द्वारा दी गई कुर्सी को स्वीकार करता है, वो राष्ट्रपति होता है। पर जो उस कुर्सी को भी ठुकरा दे, वो राष्ट्रपिता होता है।’

‘ट्रिपल तलाक’ महिलाओं के साथ अत्याचार

​इस्लामिक शरीयत में ‘ट्रिपल तलाक’ के प्रावधान की जैन मुनि ने कड़ी आलोचना करते हुए कहा कि इससे महिलाओं के खिलाफ अत्याचार बढ़ा है। उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है कि ये महिलाओं के साथ अत्याचार है, ज़ुल्म है। उस दिन व्हाट्सऐप से विदेश में बैठे व्यक्ति ने अपनी पत्नी को तलाक दे दिया। यह कोई बात हुई। यह कैसी परम्परा है?’

संथारा मृत्यु को महोत्सव मनाने की कला

यह पूछे जाने पर कि वह क्यों जैन धर्म में ‘संथारा’ की परंपरा का विरोध नहीं करते, जैन मुनि ने कहा, ‘सती और संथारा परम्पराओं में फर्क समझना जरूरी है। सती प्रथा में राग है, कि अगले जन्म में मैं उनके साथ रहूंगी, जो इनकी गति हुई, वही गति मेरी भी हो, और संथारा विराग का रास्ता है। राग और द्वेष में फर्क समझना जरूरी है। सती प्रथा में राग है, संसार है, और संथारा में विराग है, विरक्ति है, और जन्म-मरण के बंधन से मुक्ति की भावना है।’

उन्होंने कहा, ‘संथारा की प्रक्रिया चन्द घंटों की नहीं है। बारह साल की लम्बी प्रक्रिया है। अगर मैं युवा हूं, संथारा ले लूं, इसके लिए धर्म अनुमति नहीं देगा। लेकिन यदि कोई एक निश्चित आयु तक पहुंच जाता है, और उसे लगता है कि मृत्यु निकट है, तो वह ऐसा कर सकता है। महावीर ने कहा, जीवन को उत्सव कैसे बनाएं ये जानना है तो गीता के पास जाएं, और मृत्यु को महोत्सव कैसे बनाएं, ये सीखना है तो महावीर के पास आइए। संथारा मृत्यु को महोत्सव मनाने की कला है।’

पीएम मोदी के नोटबंदी की प्रशंसा

जैन मुनि ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नोटबंदी के कदम की प्रशंसा की। यह पूछे जाने पर कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने क्यों नोटबंदी विरोध किया, मुनि तरुण सागर का जवाब था, 'राहुल जो कुछ बोलते हैं, पार्टी के हिसाब से बोलते हैं, अपने लिए, अपने मन का नहीं बोलते हैं। जो पार्टी का मंतव्य होता है, पार्टी के हित में होता है, वो बोलते हैं। मोदीजी से मेरा कोई लेना देना नहीं है। ना मुझे उनसे कुछ चाहिए, न मुझे उनसे कोई अपेक्षा है। मेरे लिए सब हैं। सियासत से मेरा कोई लेना देना नहीं है। 'देश में कितना काला धन है, आप कल्पना नहीं कर सकते। करीब 10 लाख ज्योतिषी देश में हैं पर किसी ने भी नहीं बताया कि 1000, 500 के नोट बन्द होने वाले हैं जबकि इस देश का ऋषि मुनि हमेशा से कहता आया है कि नोट सिर्फ रंग-बिरंगे टुकड़े हैं। पर किसी को समझ में नहीं आई। 8 नवम्बर रात्रि 8 बजे मोदीजी ने एक झटके में समझा दिया कि ये कागज के टुकड़े हैं।'

राष्ट्रविरोधी नारे लगानेवालों को बर्दाश्त नहीं किया जा सकता

जैन मुनि ने जवाहर लाल नेहरु यूनिवर्सिटी के उन छात्र नेताओं को भी निशाने पर लिया जिनके बारे में उन्होंने कहा कि वे राष्ट्रविरोधी नारे लगाते हैं। 'जेएनयू में जो छात्र राष्ट्रविरोधी नारे लगाते हैं, उनको बर्दाश्त नहीं किया जाना चाहिए। कुछ लोग उनका समर्थन भी करते हैं। मुझे लगता है ये देश के लिए शुभ संकेत नहीं है, इसका सख्त रूप से विरोध होना चाहिए। ऐसे लोगों के लिए सजा का प्रावधान होना चाहिए।'

धर्म पति है और राजनीति पत्नी

हरियाणा विधानसभा में अपने विवादास्पद बयान पर उन्होंने कहा, 'जो बात मैंने कही, मीडिया ने उसे अलग अंदाज में लिया। मेरे कहने का मतलब ये था कि राजनीति और धर्म का आपस में क्या संबंध है। मैंने कहा था, धर्म पति है और राजनीति पत्नी है। इन दोनों के संबंध में कह रहा था। मेरा अभिप्राय नहीं था कि नारी को हल्का दिखाऊं।'

नारी हर हाल में भारी, पुरुष सदा उसका आभारी

हालांकि लैंगिक समानता के मुद्दे पर जैन मुनि तरुण सागर ने कहा, 'ये मैं नहीं कह रहा हूं। ये प्रकृति कहती है। मैं नारी शक्ति को कमजोर मानता हूं ऐसा नहीं है। नारी, हर हाल में भारी, पुरुष सदा उसका आभारी। नारी अपनी जगह महत्वपूर्ण है, पर कुदरत की जो व्यवस्था है, उसको मानना हो, न मानना हो, मानना चाहिए।'

जब रजत शर्मा ने पूछा कि अगर ऐसा है तो फिर जैन धर्म में क्यों नहीं महिलाओं को दिगंबर मुनि बनने की इजाजत दी जाती है, मुनि तरुण सागर ने कहा, 'देखिए ये व्यवस्था है, जैन शास्त्र में स्त्री के लिए जो पद है उसमें यही कहा कि वो वस्त्र में रहें, निर्वस्त्र के लिए आज्ञा नहीं है। ये केवल जैन धर्म में नहीं, सभी धर्मों में हैं, जो नगा साधु हैं, उनमें भी यही नियम है।'

जीन्स वाली मम्मी आंचल कहां से लाएगी

जीन्स पहनने वाली महिलाएं अपने बच्चों को आंचल कैसे देंगी वाले बयान पर मुनि तरुण सागर ने कहा, 'मैंने कहा था मां का आंचल दूधमुंहे बच्चे के लिए स्वर्ग से भी बढकर है, जहां बच्चा अपने को सबसे महफूज़ समझता है। मां भी ढंक लेती है कहीं मेरे मुन्ने को नजर न लग जाए। लेकिन अब पैदा होने वाली औलाद ये सुख नहीं पा पाएगी क्योंकि जीन्स वाली मम्मी आंचल कहां से लाएगी। जीन्स पहने उसकी मर्जी, उसका अपना निर्णय, उसमें इन्टरफियर ये जबरदस्ती नहीं करूंगा। मेरा मानना है जैन धर्म जबरदस्त है, पर वो किसी के साथ जबरदस्ती नहीं करता। क्या पहनना, नहीं पहनना, ये निर्णय उसको करना है।'

वर्षीतप प्रारम्भ
21/3/2017

Share this page on: