22.03.2017 ►Acharya Shri VidyaSagar Ji Maharaj ke bhakt ►News

Posted: 22.03.2017
Updated on: 23.03.2017

Update

"द्वितीय समाधि दिवस (20 मार्च 2017) | मुनिश्री क्षमासागर महाराज को दी विनयांजलि, समर्पण सभा में किया याद-"

मुनिश्री क्षमासागर जी महाराज लोगों के घरों और फोटो में नहीं वरन लोगों के दिलों में बसते हैं। वे ऐसे संत थे जिन्होंने श्रावकों को बेहतर मानव जीवन बनाने का अनवरत संदेश दिया। उक्ताशय के उद्गार सोमवार की सुबह वर्णी भवन मोराजी में मुनिश्री क्षमासागर महाराज के द्वितीय समाधि दिवस पर आयोजित विनयांजलि एवं समर्पण सभा में देश के विभिन्न स्थानों से आए मनीषियों एवं गणमान्य नागरिकों ने व्यक्त किए। वक्ताओं ने मुनिश्री को ऐसा प्रकाश पुंज बताया जो सदैव करूणा एंव मानवता का पथ आलोकित करता रहेगा। प्रात:काल आर्यिका तपोमति माताजी के ससंघ सानिध्य में समाधि स्थल पर भाग्योदय तीर्थ के सामने प्रार्थना सभा आयोजित की गई। छतरपुर के राजेश बड़कुल ने मेरी भावना एवं समाधिमरण पाठ प्रस्तुत कर विनयांजलि दी। आर्यिका तपोमति माताजी ने मुनिश्री से जुडे़ अनेक प्रेरक संस्मरण सुनाते हुए उन्हें एक करूणामयी विद्यमान संत बताया। इस अवसर पर मुनिश्री भव्य सागर महाराज ने संस्मरण सुनाए।

विनयांजलि सभा में डॉ. सरोज कुमार इंदौर, संतोष शाह, निर्मलचंद निर्मल, डॉ. उदय जैन, निधि जैन, दीप्ति चंदेरिया, मंजू दीदी ने मुनिश्री ने व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर प्रकाश डाला।

मोराजी के वर्णी सभागार में सर्वप्रथम क्षमासागर महाराज के चित्रों का अनावरण महेश बिलहरा डॉ. जीवनलाल जैन, डॉ. सुरेश आचार्य, संतोष बैटरी ने किया। चित्र के समक्ष दीप प्रज्जवलन संतोष शाह शोलापुर, आदित्य जी बीना, पवन जैन कोटा, एवं मैत्री समूह के सदस्यों ने किया।

शाम आयोजित समारोह में मुनि श्री के द्वारा रचित काव्य ग्रन्थ "शिवालय के सोपान" और "शंका समाधान" पुस्तक का विमोचन किया गया।

तत्पश्चात शंत शिरोमणि आचार्य विद्यासागर जी महाराज के जीवन पर आधारित नाटक आत्मान्वेषी का मंचन किया गया। मुनि श्री क्षमासागर जी द्वारा लिखित पुस्तक आत्मान्वेषी का नाट्य रूपान्तरण - अर्चना मलैया, निर्देशन - अरुण पांडे, परिकल्पना - कमल जैन द्वारा, मैत्री समूह के निर्देशन में किया गया। नाटक का मंचन भोपाल, अजमेर और जबलपुर में हो चुका है। तीस में से अधिकतर कलाकार जैनेतर समाज से हैं जो सभी रंगमंच पर प्रस्तुति देते हैं। वर्णी भवन मोराजी में सागर तथा अन्य स्थानों से इस नाटक को देखने के लिए बड़ी संख्या में लोग पहुँचे।

सभा संचालन राजेश जैन बड़कुल और डॉ. सुमति प्रकाश जैन छतरपुर ने किया। आभार राजेंद्र सुमन ने जताया। मंगलाचरण झांसी से आई यंग आर्केस्ट्रा के कलाकारों ने प्रस्तुत किया

नर्मदा नदी किनारे ठहरे महासागर के कदम बढे अगले पड़ाव की ओर... छत्तीसगढ़ की सर जमी हो सकती है पवित्र.. सम्भावित विहार दिशा -नैनपुर लामता बालाघाट.. #AcharyaVidyasagar

- - - - - - - www.jinvaani.org @ Jainism' e-Storehouse.

#Jainism #Jain #Digambara #Nirgrantha #Tirthankara #Adinatha #LordMahavira #MahavirBhagwan #RishabhaDev #Ahinsa

*करता तुमको विश्व नमन है*,
*नाभिराय,मरुदेवी के नंदन*।
*जन्मोत्सव पर ऋषभदेव प्रभु*,
*स्वीकार करो मेरा वंदन।*।

भगवान ऋषभदेव जयंती की आप सभी धर्म प्रेमी बन्धुओं को हार्दिक हार्दिक शुभकामनाएं बधाई #AdinathaBhagwan #RishabhaDeva #LordAdinatha #Jainism

आचार्य श्री ज्ञानसागर जी मुनिराज ससंघ चौधरी धर्मशाला गुलावठी,बुलंदशहर (उ.प्र.)में सिकंदराबाद हापुड़ रोड़ विराजमान है। आचार्य श्री का मंगल विहार विकास नगर,देहरादून की तरफ चल रहा है। #AcharyaGyansagar

आचार्य श्री 108 ज्ञानसागर जी महाराज का 29 वाँ दीक्षा दिवस और महावीर जयंती

0⃣9⃣➖0⃣4⃣➖2⃣0⃣1⃣7⃣ को वहलना मुज़फ्फर नगर (उ.प्र.) में मनाया जायेगा।

17वां अखिल भारतीय जैन छात्र-छात्रा प्रतिभा सम्मान समारोह 2⃣3⃣➖0⃣4⃣➖2⃣0⃣1⃣7⃣ को विकास नगर देहरादून (उत्तराखंड) में होगा।

आचार्य श्री 108 ज्ञानसागर जी महाराज ससंघ के पावन सान्निध्य में श्री मज़्ज़िनेंद्र पंचकल्याणक प्रतिष्ठा महोत्सव 3⃣0⃣अप्रैल 2⃣0⃣1⃣7⃣ से 0⃣5⃣मई 2⃣0⃣1⃣7⃣तक होगा।
स्थान:--विकास नगर देहरादून उत्तराखण्ड में।

सभी धर्मप्रेमी बंधुओ निवेदन है कि अधिक -से-अधिक संख्या में पहुच कर सभी कार्यक्रम की शोभा बढाये।

आज 24 घंटे का नियम खाने में ऊपर से नमक नही!

मनोज जैन 9310660748

- - - - - - - www.jinvaani.org @ Jainism' e-Storehouse.

#Jainism #Jain #Digambara #Nirgrantha #Tirthankara #Adinatha #LordMahavira #MahavirBhagwan #RishabhaDev #Ahinsa

News in Hindi

On #Vishwa_Jain_Dhwaj_Divas, let's keep it as our dp..😊 share it #Jainism #AncientJainism #JainFlagDay

मुनि क्षमासागर जी का संदेश...
Danik Bhaskar 21st March

Share this page on: