26.03.2017 ►Acharya Shri VidyaSagar Ji Maharaj ke bhakt ►News

Posted: 26.03.2017

Update

श्री सम्मेद शिखरजी के पर्वत पर सोलर लाइट का शुभारं हो गया.. अब वंदना पर जाते वक़्त टार्च ले जाने की जरुरत नहीं पड़ेगी। #SammedShikhar #ParasnathTonk #ShikharJi

- - - - - - - www.jinvaani.org @ Jainism' e-Storehouse

News in Hindi

विद्यागुरु सम शिल्पी हो तो, जन्म जन्म पत्थर बन जाऊँ |
दें आकार मेरे गुरुवर तो, मैं गीली माटी बन जाऊँ |
पा स्पर्श तेरा निर्मोही, अपने सारे पाप नशाऊँ s
चरणों की जो धूलि मिले तो, धर मस्तक मुक्ति पा जाऊँ |

🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃🍂
-जैन ब्रजेश सेठ,पाटन

- - - - - - - www.jinvaani.org @ Jainism' e-Storehouse.

#Jainism #Jain #Digambara #Nirgrantha #Tirthankara #Adinatha #LordMahavira #MahavirBhagwan #RishabhaDev #Ahinsa

बढ़ते चरण #छत्तीसगढ़ की तरफ.. #acharyaVidyasagar आचार्य श्री ससंघ का मंगल गमन कान्हा किसली के घनघोर जंगलो से हो रहा है,चारों तरफ जंगल,पहाड़ और लम्बी दूरी पर आदिवासियों के घर।

आचार्यश्री वर्तमान में मध्यप्रदेश राज्य की सीमा में विहार कर रहे है,26 मार्च को आदिवासियों का उद्धार करते हुए श्रमण सूरि के चरण छत्तीसगढ़ प्रांत में पडेंगे,कल बैहर में आहारचर्या के उपरांत महाश्रमण के चरण मलाजखंड के रस्ते छत्तीसगढ़ तरफ बढ़ेंगे मलाजखंड के पास राधोली ग्राम है,वहाँ खुदाई में 4 जिनबिंब प्राप्त हुए है,जिनकी सेवा-पूजा वहाँ के आदिवासी करते है, राधोली ग्राम के आदिवासी आचार्य श्री की आगवानी हेतु पलक-पावड़े बिछाए है,आचार्य भगवंत यहाँ जिनबिम्बों के दर्शन करेंगे व पुनश्च विहार कर जाएंगे,इसी ग्राम से छत्तीसगढ़ की सीमा शुरु हो जाएगी/4 अप्रैल को डोंगरगढ़ में भव्य आगवानी होने की पूर्ण संभावना है।

- - - - - - - www.jinvaani.org @ Jainism' e-Storehouse.

#Jainism #Jain #Digambara #Nirgrantha #Tirthankara #Adinatha #LordMahavira #MahavirBhagwan #RishabhaDev #Ahinsa

आचार्य गुरुवर विद्यासागर जी के परम प्रभावी अनमोल शिष्य

मुनि श्री क्षमासागर जी
के बहुचर्चित शंका समाधान
का संकलन

मुनि श्री के द्वितीय समाधि दिवस पर मैत्री समूह द्वारा प्रथम संस्करण में प्रकाशित किया गया है|

किताब के लिए आप सभी के SMS हमें मिल रहे है। हमने इस किताब को हमारे ऑनलाइन स्टोर (Online Store) पर उपलब्ध करा दी है

ओर्डर करने के लिए लिंक: https://goo.gl/I4Xg8K

जय जिनेंद्र!

मैत्री समूह
+91 76940 05092,
+91 94254 24984

गर्मी शुरू हो गई है। अपनी छतो पर पानी के बर्तन जरूर रखे ताकि पंछी प्यासे ना रहे। वरना कई पंछियो की गर्मी में प्यास और भोजन के कारण मौत हो जाती है।

हमारे साथ आप भी इस पुण्य के कार्य में भागीदारी लें और अपने मित्रों को भी निवेदन करें

Share this page on: