17.12.2017 ►Jeevan Vigyan Academy ►Muni Kishanlal

Posted: 17.12.2017

http://www.herenow4u.net/fileadmin/v3media/pics/organisations/Jeevan_Vigyan_Academy/Jeevan_Vigyan_Logo__New_.jpg

Jeevan Vigyan Academy


2017.12.17 Jeevan Vigyan Academy News 01 2017.12.17 Jeevan Vigyan Academy News 02

News in Hindi:

रसियन लोगों ने सीखा प्रेक्षाध्यान और ज्ञान

हांसी, 17 दिसम्बर 2017।

प्रेक्षाप्राध्यापक ‘षासनश्री’ मुनिश्री किषनलाल से रसिया से आई ओल्गा, लादा व उनके बच्चे फोमा, केसिनो ने ध्यान सीखने के लिए लगभग 10 दिन हांसी में रहे।

तेरापंथ युवक परिषद के प्रधान राहुल जैन ने बताया कि रसिया से आए प्रतिनिधि प्रेक्षाध्यान जीवन विज्ञान का प्रषिक्षण लेते हैं साथ ही जैन संस्कृति से सूत्र और मंत्र सीखते हैं इन्हें जैन जीवन शैली अच्छी लगती है। ये राजस्थान के नागौर जिले के लाडनूं कस्बे में स्थित जैन विष्वभारती विष्वविद्यालय लाडनूं में कुछ समय रहना चाहते है।

ओल्गा व लादा ने अपने अनुभव में बताया कि प्रेक्षाध्यान से उन्हें शांति मिलती है और बार-बार भारत में आकर अच्छा जीवन जीना चाहती है। भारत के लोग अच्छे हैं प्रेम करते हैं।

इस दौरान ‘षासनश्री’ मुनिश्री विजयकुमारजी ने सुमधुर गीत सुनाए, मुनि प्रतीक कुमार तथा मुनि निकुंज कुमार ने जैन धर्म के णमोकार मंत्र जीवन को बदलने वाले प्रयोग करवाये। रसिया से आए लोगों की तेरापंथी सभा हांसी ने अच्छी व्यवस्था की।

- राहुल जैन
9812272360

Google Translate:

Russian people learned auditory and knowledge

Laughter, December 17, 2017

Observer 'Shanshan Shree' from Munshi Kishan Lal, Olga, Laada and their children from Rasia, Foma, Casinos remained in laughter for about 10 days to learn meditation.

Rahul Jain, the head of the youth Youth Council of Terepanth, said that the representatives from Rasia take the education of life sciences and also learn formulas and mantras from Jain culture, they look good on Jain life style. This Jain, based in Ladon town of Nagaur district of Rajasthan, wants to stay sometime in Ladakh, University of Bharati.

Olga and Ladada said in her experience that she enjoys peace by observing and wants to live a good life repeatedly in India. People of India are good people love.

During this time, 'Shishan Shree', Munishri Vijaykumarji narrated the songs, Muni Pratik Kumar and Muni Nikunj Kumar used to make life-changing experiments in Jainism. The laughter of the people who came from Rasia was a good arrangement.

- Rahul Jain
9812272360

Share this page on: