12.01.2018 ►Jeevan Vigyan Academy ►Muni Kishanlal

Posted: 12.01.2018

http://www.herenow4u.net/fileadmin/v3media/pics/organisations/Jeevan_Vigyan_Academy/Jeevan_Vigyan_Logo__New_.jpg

Jeevan Vigyan Academy


25774829868

'2018.01.01 Jeevan Vigyan Academy News 01

24777777877

'2018.01.01 Jeevan Vigyan Academy News 02

News in Hindi:

मुनिश्री किषनलालजी का 66वां दीक्षा दिवस

दीक्षा जीवन को बदलने वाला तत्त्व है: मुनिश्री किषनलाल

हांसी, 12 जनवरी 2018

आचार्यश्री महाश्रमण के आज्ञानुवर्ती प्रेक्षाप्राध्यापक ‘षासनश्री’ मुनिश्री किषनलालजी का आज 66वां दीक्षा दिवस था। मुनिश्री ने आज के दिन 12 जनवरी 1953 राजस्थान के बीकानेर जिले के मोमासर गांव में आचार्य तुलसी से दीक्षा ग्रहण की थी। मुनिश्री ने अपने दीक्षा दिवस पर अपने उद्बोधन में कहा कि दीक्षा जीवन को रूपान्तरित करने वाला महत्त्वपूर्ण अंग है। दीक्षा केवल वेष परिवर्तन नहीं है। दीक्षा जीवन को बदलने वाला तत्त्व है। भारतीय संस्कृति में दीक्षा का अत्यन्त महत्त्व है। मुनिश्री किषनलालजी ने दीक्षा लेकर आचार्यश्री तुलसी के नेतृत्व में प्रेक्षाध्यान के प्रयोग किए। अणुव्रत के प्रसार में सहयोग किया। जीवन को बदलने वाले अभिनव प्रक्रिया का निर्माण किया। हजारों-हजारों अध्यापकों एवं विद्यार्थियों का जीवन विज्ञान से बदलाव किया। जीवन विज्ञान का हिन्दी और अंग्रेजी में 12 वीं कक्षा तक की पुस्तकों का निर्माण किया जो विभिन्न राज्यों की स्कूलों में विद्यालयों में अभ्यास करवाया और एन.सी.ई.आर.टी. में शोध के द्वारा अनुषासन स्वास्थ्य एवं जीवन निर्माण में उपयोगी सिद्ध हुआ। 66वें वर्ष में दीक्षा के प्रवेष के उपलक्ष में विभिन्न क्षेत्रों से मंगल कामनाएं प्राप्त हुई। इस दौरान स्थानीय सभा अध्यक्ष दर्षन कुमार जैन, अणुव्रत समिति अध्यक्ष अषोक जैन, पूर्व सभा अध्यक्ष डालचन्द जैन, दिल्ली से राहुल जैन, तोषाम के वैरागी मुकुल जैन व उसके परिवारिकजन उपस्थित थे।

- अषोक सियोल

Google Translate English:

66th Diksha Diwas of Munishri Kishanlal ji

Initiation is the key to changing life: Munishri Kishan Lal

January 12, 2018

Acharyashree Mahishram's intuitive observer professor 'Shanshan Shree' was the 66th Dikshaa Day of Municri Kishanlalji. Munishri had adopted Diksha from Acharya Tulsi on Monday, 12th January, 1953 at Momasar village of Bikaner district of Rajasthan. In his exhortation on his initiation day, Munishri said that initiation is an important part of transforming life. Initiation is not only the transformational change. Initiation is the principle of changing life. In Indian culture, initiation has an important significance. Munishri Kishanlalji used the initiation of audit under the leadership of Acharyashree Tulsi, through initiation. Cooperated in the spread of atomic mass. Created the innovative process that transforms life. Changing the lives of thousands of teachers and students from life sciences. Books of Life Sciences in Hindi and English, up to 12th standard, which were conducted in schools in various state schools and conducted by NCERT. Discipline has proved to be useful in health and life-building by research. In the 66th year, Mangal wishes were received from various fields in the vicinity of the initiation of initiation. Local Sabha Speaker Darshan Kumar Jain, Nirvrat Committee Chairman Ashok Jain, Former Speaker Dalchand Jain, Rahul Jain from Delhi, Mukherjee of Tosham Mukul Jain and his family members were present.

- Ashok Sion

Share this page on: