20.04.2018 ►Acharya Shri VidyaSagar Ji Maharaj ke bhakt ►News

Published: 20.04.2018
Updated: 23.04.2018

Update

Hello 83,000 members एक प्रश्न! पेज के किस किस मेंबर ने अभी तक वर्तमान के वर्धमान आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के दर्शन नहीं किये?

करो भाई! किसका इंतज़ार करते हो -महावीर कि जीवंत प्रतिकृति इस धरा पर है! जो सूर्य कि तरह असीमशांति का मार्ग फैला रही है!! वीतरागता के उत्कृष्ट उपासक वैरागी के दर्शन कर लज़िये एक बार... पपोरा जी में:)

-वीतरागता के उपासक.. उस वैरागी का.. एक अनुरागी -Nipun ☺️

Video

गुरुवर तेरे चरणों की.. मुझे धुल जो मिल जाए.. सच कहता हूँ बाबा.. मेरी तक़दीर बदल जाए.. #MustWatch #shareMaximum रोंगटे खड़े कर देने वाले द्रश्यो.. भजन... भीड़ में.. श्रमणपरंपरा के सूर्य आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज की महा भव्य प्रवेश हुआ पपोरा जी में आज!!

Update

जिनवाणी के उदगम स्थान - अनंतानंत जीवो की मोक्ष स्थली #सम्मेद_शिखर की रक्षा का प्रण... #Dont_Spoil_SammedShikhar

इस पर्वत के बारे में कहा गया है 'एक बार बंदे जो कोई, काही नरक पशु गति नाही होई' मतलब अगर आपने एक बार इस पर्वत के भाव से वंदना कर ली तो next birth में आपको नरक या पशु गति नहीं हो सकती मतलब आप देव/मनुष्य बनेंगे...और ग्रन्थ में ऐसा वर्णन भी मिलता है जिसको सुनकर आप आश्चर्य करेंगे 'भाव सहित सम्मेद शिखर पर्वत की वंदना करने वाले को 48 जन्मो के अन्दर अन्दर मोक्ष होना निश्चित हो जाता है | ' अब आप सोच सकते है की सम्मेद शिखर जी क्या स्थान है..

लेकिन अफ़सोस है हम थोडा जीभ के taste और Comfortable होने के चक्कर में सम्मेद शिखर जी की पवित्रता ख़तम करते जा रहे है, जो स्थान अपनी पवित्रता के कारन हमें नरक/पशु गति से बचाने वाला है और मोक्ष का होना निश्चित होना confirm कराने वाला है हम लोग उस स्थान की पवित्रता ख़तम करते जा रहे है, हम वहा जाते है और खूब chines food, fast food, रात को खाना खूब खाते है जैसे कोई भगवान् के दर्शन करने नहीं कही पिकनिक बनाने के लिए आये है, और तो और नया ड्रामा 'बिना अन्न की थाली' भी अब शिखर जी में मिलने लगी है और लोग खूब खाने लगे..भाई लोगो ये क्या है...धर्मं को ड्रामा बना लिया हमने और कुछ नहीं....क्या हम जब शिखर जी जाए तो 3-4 दिन भी बिना chines food, fast food के नहीं रह सकते? क्या हम मर जायेंगे अगर 3-4 दिन chines food, fast food नहीं खायेंगे [माफ़ करना अगर मेरा ये शब्द प्रयोग करना गलत लगा तो पर क्या करे हम taste चक्कर में पागल जैसे ही होगये है]

और शिखर जी के पहाड़ को तो हमने picnic spot और safari hill Place बना दिया और लगता है हम कोई discovery करने जा रहे है....boys Jeans, paint, Tees [t-shirts], Shirt में और Girls also in Jeans, Top, Kapri, Shorts और साथ में Shoes with stocking. उनके पास Mobile, कैमरा, Apple shuffle, Digital mp3 player और भी पता नि क्या क्या लेकर पर्वत पर जाते है और उनका Trendy Attire से तो लगता है जैसे क्या यही बस Mount Everest पर जा रहे है...और तो और साथ में Backpack [पीठ पर लटकाया जाने वाला थैला] भी लटका लेते है हा भैया बस उनको ही भूख लगती है...5 घंटे में बस यही कमजोर हो जायेंगे और यही लगता है की कभी खाना खाया ही नहीं...पहाड़ पर ही First time खायेंगे Life में...ये वो पर्वत है जहा से अनंत जीवो ने कर्म रूपी पर्वतो को चूर चूर कर और निर्वाण को प्राप्त किया...आपको पता है ये पर्वत अनादीकाल से है और अनंतकाल तक रहेंगा...तीर्थंकर हमेशा इसी पर्वत से मोक्ष गए और जायेंगे...

हमें पर्वत पर white dress में जाना चाहिए जैसे boys [men community] को white कुरता-पजामा या धोती-दुपट्टा में और वो भी सोला [शुद्ध] होना चाहिए...और female community को भी शालीन और शुद्ध वस्त्र पहन कर जाए, हो सके तो मोबाइल/camera ना लेकर जाए, नियम लेकर जाए पहाड़ पर कुछ नहीं खाऊंगा/खाऊंगा, पैरो में जूते/चप्पल नहीं पहनना चाहिए, जुराब भी नहीं, और पहाड़ पर कुछ नहीं खाना, पीना भी नहीं [Except some specific cases]... अगर आपको पानी लेजाना हैं तो ले जाए या कुछ खाने का सामान भी लेकिन उसका कूड़ा साथ में बैग लेकर जाए उसमे ही निचे ले आये पहाड़ पर गन्दगी न करे. कुछ खरीदना नहीं...मस्ती/मजाक नहीं करना...'आत्मा को कुंदन बनाने वाली जिनवाणी के स्त्रोत तीर्थंकर भगवान् के मोक्ष स्थल पर हम जारहे है...जिस पथ पर चलकर हम भी जरुर एक दिन कुंदन हो सकेंगे...और उनके सामान सिद्धशिला पर विराजेंगे...'

आओ आज हम प्रण करे की अब से हम शाश्वत तीर्थ श्री सम्मेद शिखर जी पवित्रता बनाने में पूर्ण सहयोगी होंगे....

-Nipun Jain

News in Hindi

Exclusive @ 32 वर्षो बाद अतिशय क्षेत्र पपौरा जी में आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज का भव्य मंगल प्रवेश 🙏

ACHARYA VIDYASAGAR JI HIMSELF DOESN'T USE/ TOUCH LAPTOP/ MOBILE/ COMPUTER OR MAINTAIN THIS PAGE. Even He hasn't given permission to anyone run a page on his behalf. Its just the efforts by his followers to bring Jinvaani and teachings of Jainism along spreading his ideal persona, he has! 🙃

इस फोटो में जो Girls दिख रही हैं वे Deaf and Dumb [ बहरा और गूंगा ] हैं.. ये आचार्य श्री विद्यासागर जी के आशीर्वाद से हटकरधा का काम प्रतिभास्थली तिलवारा में सिख रही हैं.. ये पिक्चर अभी 6-7 दिन पहले की जबलपुर की हैं:) Jay Ho... जैनम जैयतु जिनशासनाम.. वन्दे विद्या सागरम! #share

Sources
Share this page on:
Page glossary
Some texts contain  footnotes  and  glossary  entries. To distinguish between them, the links have different colors.
  1. Acharya
  2. Acharya Vidya Sagar
  3. Acharya Vidyasagar
  4. Jainism
  5. JinVaani
  6. Nipun Jain
  7. Sagar
  8. Vidya
  9. Vidyasagar
  10. आचार्य
  11. तीर्थंकर
  12. दर्शन
  13. धर्मं
  14. भाव
  15. शिखर
Page statistics
This page has been viewed 734 times.
© 1997-2020 HereNow4U, Version 4
Home
About
Contact us
Disclaimer
Social Networking

HN4U Deutsche Version
Today's Counter: