Chobisi ►21 ►Stavan for Bhagwan Naminatha

Posted: 14.04.2016
Updated on: 15.04.2016

Chobisi is a set of 24 devotional songs dedicated to the 24 Jain Tirthankaras.


Composed by:

Dedicated to:

Acharya Shree Jeetmalji
Acharya Jeetmal
 

Language: Rajasthani:
 

21~~तीर्थंकर नमि प्रभु

प्रभु नमिनाथजी मुझ प्यारा रे।
मुझ प्यारा प्राण आधारा।

नमिनाथ अनाथां रा नाथो रे,नित्य नमण करुँ जोड़ी हाथो रे।
कर्म काटण वीर विख्यातो, प्रभु नमिनाथजी मुझ प्यारा रे।।१।।

प्रभु ध्यान सुधारस ध्याया रे, पद केवल जोड़ी पाया रे।
गुण उत्तम-उत्तम आया,प्रभु नमिनाथजी मुझ प्यारा रे।।२।।

प्रभु बागरी वाण विशालो रे,खीर-समुन्द्र थी अधिक रसालो रे ।
जगतारक दिनदयालो,प्रभु नमिनाथजी मुझ प्यारा रे।।३।।

थाप्या तीरथ च्यार जिनिन्दो रे,मिथ्या -तम हरण मुनिन्दो रे।
ज्यांनैं सेवत सुर -नर वृन्दो,प्रभु नमिनाथजी मुझ प्यारा रे।।४।।

सुर अनुत्तर विमाण नां सेवै रे,प्रश्न पुछ्यां उत्तर जिन दैवै रे।
अवधिज्ञान करी जाण लेवै, प्रभु नमिनाथजी मुझ प्यारा रे।।५।।

तिन्हा बैठे ते तुम ध्यान ध्यावै रे,तुम योग -मुद्रा चित चावै रे।
ते पिण आपरी भावना भावै, प्रभु नमिनाथजी मुझ प्यारा रे।।६।।

उगणीसै आसोज उदारो रे,कृष्ण चौथे गाया गुणधारो रे।
हुवो आणंद हर्ष अपारो,प्रभु नमिनाथजी मुझ प्यारा रे।।७।।

 

 

 


Bhagwan Naminatha



Symbol - Blue Lotus


 

 

 

 

21

Stavan for Bhagwan Naminatha

 

Acharya Tulsi

5:32

http://www.herenow4u.net/fileadmin/v3media/pics/persons/Babita_Gunecha/Babita_Gunecha_560.jpg

Babita Gunecha

3:42

Language: Hindi
Author: Acharya Tulsi

 

 अर्थ~~21~~तीर्थंकर नमि प्रभु

नमिनाथ प्रभो! तुम अनाथों के नाथ हो ।मैं बद्धांजलि हो तुम्हे नित्य प्रणाम करता हूँ। तुम कर्म- बंधन को छिन्न करने के लिए सुप्रसिद्ध वीर हो।

तुमने अमृतरसमय ध्यान किया और केवल-युगल (केवलज्ञान और केवलदर्शन) प्राप्त कर लिया ।तुम्हारे जीवन में उत्तम -उत्तम गुण प्रकट हुए।

जगतारक दीनदयाल!तुमने विशाल वाणी में देशना दी।वह तुम्हारी वाणी  क्षीर-समुन्द्र से भी अधक रसमय थी।

तुमने मिथ्यात्व रूपी अंधकार को दूर करने के लिए चार तीर्थ(साधू,साध्वी,श्रावक,श्राविका) स्थापित किये।देव और मनुष्य -समूह तुम्हारी उपासना करते है।

अनुत्तर विमान के अहमिन्द्र देव तुम्हारी उपासना करते है वे वहाँ बैठे-बैठे प्रश्न करते है, तुम उन्हें उत्तर देते हो।वे अवधिज्ञान द्वारा उसे जान लेते है।

वे वहां बैठे-बैठे तुम्हारा ध्यान करते है।तुम्हारी योगमुद्रा को अन्तः करण से चाहते है।वे तुम्हारी भावना से भावित हो जाते है।

मैंने प्रभु के गुण गाये, इससे मुझे अपार आनन्द और हर्ष हुआ।

रचनाकाल-वि. सं.१९००, आश्विन कृष्णा चतुर्थी।

 

English Translation:

21st Tirthankara Naminatha

Lord Naminatha! You are the protector of orphans. I beseechingly bow before you everyday. You are the eminent mighty, who diminishes the snare of Karma.

You did the meditation of delightful ambrosia and attained the pair of Keval - Keval Gyan and Keval Darshan. Transcendental merits appeared in your life.

Mighty saviour of universe! Merciful! You gave sermons in a magnificent voice, which was more delightful than the Ksheer Samudra (the ocean which has very delicious and sweet water or milk).

You founded four Tirtha (Sadhu, Sadhvi, Shravak and Shravika) to dispel the obscurity of Mithtatva. Manushya and Deva groups worship you.

Deities of Anuttar Vimana (The top heaven), Ahmindra also worship you. They interrogate from there, being seated only, you respond to them which they understand by Avadhi Gyan.

They cherish you being seated there only. They like your Yoga posture by conscience. They become fanciful in your idolum.

I have glorified the God, I got a shoreless rejoice by this.

Time of Composing: V.S 1900, 4th day of Krishna Ashwin.

 

Share this page on: