Chobisi ►22 ►Stavan for Bhagwan Arishtneminatha

Posted: 15.04.2016
Updated on: 16.04.2016

Chobisi is a set of 24 devotional songs dedicated to the 24 Jain Tirthankaras.


Composed by:

Dedicated to:

Acharya Shree Jeetmalji
Acharya Jeetmal
 

Language: Rajasthani:
 

 22~~तीर्थंकर अरिष्टनेमि प्रभु

प्रभु नेम स्वामी! तूं जगनाथ अंतरयामी।
रिठनेमि स्वामी! तूं जगनाथ अंतरयामी ।।

तूं तोरण स्यूं फिर्यो जिन -स्वाम,अद्भुत बात करी तैं अमाम।
प्रभु नेम -स्वामी! तूं जगनाथ अंतरयामी।।१।।

राजिमती छांडी जिनराय,शिव-सुन्दर स्यूं प्रीत लगाय।
प्रभू नेम - स्वामी! तूं जगनाथ अंतरयामी।।२।।

केवल पाया ध्यान वर ध्याय,इंद्र शची निरखै हरषाय।
प्रभु नेम -स्वामी! तूं जगनाथ अंतरयामी।।३।।

नेरिया पिण पामैं मन मोद, तुझ कल्याण सुर करत विनोद।
प्रभु नेम - स्वामी! तूं जगनाथ अंतरयामी।।४।।

राग -रहित शिव  सुख स्यूं प्रीत, कर्म हणै  बलि द्वेष -रहीत।
प्रभु नेम-स्वामी!  तूं जगनाथ अंतरयामी।।५।।

इचरजकारी थांरो चरित,हूँ प्रणमुं  कर जोड़ी नित्त।
प्रभु नेम - स्वामी! तूं जगनाथ अंतरयामी।।६।।

उगणीसै बिद चौथ कुमार,नेम जप्यां पायो सुखसार।
प्रभु नेम -स्वामी! तूं जगनाथ अंतरयामी।।७।।

 

 

 


Bhagwan Arishtnemi Natha



Symbol - Shankha


 

 

 

 

22

Stavan for Bhagwan Arishtnemi Natha

 

Acharya Tulsi

4:51

http://www.herenow4u.net/fileadmin/v3media/pics/persons/Babita_Gunecha/Babita_Gunecha_560.jpg

Babita Gunecha

3:45

Language: Hindi
Author: Acharya Tulsi

 

 अर्थ~~22~~तीर्थंकर अरिष्टनेमि प्रभु

अरिष्टनेमि  प्रभो! तुम जगत् के नाथ और अन्तर्यामी हो।

तुम विवाह -तोरण के पास जा लौट आये।यह अद्भुत और अनुपम काम किया तुमने।

तुमने शिव-सुन्दरी से प्रीति लगा कर राजीमती को छोड़ दिया।अद्भुत है तुम्हारी लीला।

प्रभो! तुमने श्रेष्ठ ध्यान कर केवलज्ञान पा लिया।इन्द्र और इन्द्राणी तुम्हें हर्षित होकर देख रहे हैं।

प्रभो! तुम्हारे कल्याणक -गर्भाधान,जन्म,दीक्षा,केवलज्ञान-प्राप्ति और परिनिर्वाण के समय देव तो आनंदित होते ही हैं,नैरयिक जीव भी प्रमुदितमना हो जाते हैं।

मोक्ष के सुखों से तुम्हारी प्रीति है,फिर भी तुम राग -रहित हो।तुम कर्म का हनन करते हो,फिर भी तुम द्वेष -रहित हो।

प्रभो! तुम्हारा चरित्र आश्चर्यकारी है।मैं बद्धांजलि होकर तुम्हें प्रतिदिन प्रणाम करता हूं।

तुम्हारा जप करने से मुझे सारभूत सुख मिला।

रचनाकाल -वि.सं. १९००, आश्विन कृष्णा चतुर्थी।

 

English Translation:

22nd Tirthankara Arishtanemi Prabhu

Lord Arishtanemi! You are the sovereign of the universe and immanent.

You turned back from the wedding archway. Your this action was splendid and nonsuch.

You endeared the Shiv Sundari (Moksha belle) and omitted the Rajimati (fiancee). Your spectacle is tremendous.

Lord! You did the transcendental meditation and attained the Keval Gyan. Being rejoiced, Indra and Indrani are seeing you.

Lord! It is obvious that Devas got rejoiced at the moment of your Panch Kalyanak - Chyavana Kalyanak, Janma Kalyanak, Diksha Kalyanak, Kevaljnana Kalyanak and Nirvana Kalyanak, but Naraki Spirits also got happy at that moment.

Your endearment is with the pleasures of Moksha, still you lack Raga. You diminish the Karma but still you lack Dvesha.

Lord! Your character is marvellous. I beseechingly bow before you everyday.

I got essential rejoice by chanting you.

Time of Composing: V.S 1900, 4th day of Krishna Ashwin.

 

Share this page on: